Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 1 min read

स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद एक दुर्लभ संत आत्मा थे
उनके शब्द शहद जैसे मीठे और शुद्ध थे
अपनी शैली से दिलों को प्यार से जीतने वाले
वे एक महान दार्शनिक और ज्ञान के भंडारी थे।

साधारण परिवार में जन्मे वे एक वक्ता थे
उनका जीवन धार्मिक और आध्यात्मिकता में बीता था
पूरे विश्व को वेदांत का ज्ञान देने वाले
वे एक महान शिक्षक और योगी विचारक थे।

रामकृष्ण परमहंस के वे देशभक्त शिष्य थे
वे एक युवा स्वामी थे, विचार जिनमे बहुत गहरे थे
मनुष्य स्वयं शक्ति है का एहसास कराने वाले
वे प्रेरणा के स्रोत और एक समाज सुधारक थे।

दुनियां की सोच बदलने वाले वे एक संन्यासी थे
उनकी शिक्षाएँ नदी की तरह शुद्ध और निष्पक्ष थीं
राष्ट्र निर्माण हेतु युवाओं को जागृत करने वाले
वे एक महान धर्मगुरु और सच्चे मार्गदर्शक थे।

– सुमन मीना (अदिति)

Language: Hindi
1 Like · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पहला खत
पहला खत
Mamta Rani
कल की फ़िक्र को
कल की फ़िक्र को
Dr fauzia Naseem shad
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
" मुझे सहने दो "
Aarti sirsat
💐प्रेम कौतुक-166💐
💐प्रेम कौतुक-166💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रातों पर अब कोई शिकवा नहीं है
रातों पर अब कोई शिकवा नहीं है
कवि दीपक बवेजा
हड़ताल
हड़ताल
नेताम आर सी
श्रम करो! रुकना नहीं है।
श्रम करो! रुकना नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Sukoon
"सूरत और सीरत"
Dr. Kishan tandon kranti
!...............!
!...............!
शेखर सिंह
मै भी हूं तन्हा,तुम भी हो तन्हा
मै भी हूं तन्हा,तुम भी हो तन्हा
Ram Krishan Rastogi
मत रो मां
मत रो मां
Shekhar Chandra Mitra
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
लक्ष्मी सिंह
THE MUDGILS.
THE MUDGILS.
Dhriti Mishra
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
उसे लगता है कि
उसे लगता है कि
Keshav kishor Kumar
संवेदना प्रकृति का आधार
संवेदना प्रकृति का आधार
Ritu Asooja
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
सूझ बूझ
सूझ बूझ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*सर्वोत्तम शाकाहार है (गीत)*
*सर्वोत्तम शाकाहार है (गीत)*
Ravi Prakash
says wrong to wrong
says wrong to wrong
Satish Srijan
*
*"संकटमोचन"*
Shashi kala vyas
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
Vishal babu (vishu)
3032.*पूर्णिका*
3032.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रकृति को जो समझे अपना
प्रकृति को जो समझे अपना
Buddha Prakash
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
कवि रमेशराज
जीवन
जीवन
Monika Verma
योग क्या है.?
योग क्या है.?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...