Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

स्वप्न श्रृंगार

स्वप्न श्रृंगार

स्वप्न श्रृंगार नारी बन
,आती मेरे पास।
अर्द्ध रात्रि में सजी धजी
कहती हैं निज काम।।

निद्रा बेला था भयंकर,
स्वप्न शील था रात।
कानों में कह रही थी,
धीमी-धीमी बात।।

तुम्हें लेने मै आई,
चल मेरे संग साथ।
छोड़ यहां मोह माया,
पकड़ लीजिए हाथ।।

लिखी नसीब न मिट पाय,
देख लीजिए भाल।
चिन्तन मनन बंद कर,
चुंबन लो मम गाल।

नार बनकर मैं तुमसे
पूर्ण करूंगी आस
करूं वासना पूर्ण तय
बुझा दूंगी प्यास।।

खोल नयन विजय देखा
निसी बेला था मौन,।
चिंतन मनन कीजिएगा,
स्वप्न सत्य था। कौन।।

सोलह श्रृंगार कर नार
आती मेरे पास
झकझोर रखी हृदय मम
लेकर अपनी आस।।

काल कलिका खड़ी रही
दात रही विकराल
स्वप्न श्रृंगार नारी बन
लुभा रही थी काल।।

डां, विजय कुमार कन्नौजे अमोदी आरंग ज़िला रायपुर छत्तीसगढ़
स्वप्न श्रृंगार नारी सा
लुभा रही थी काल।।

Language: Hindi
2 Likes · 301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फारवर्डेड लव मैसेज
फारवर्डेड लव मैसेज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
Manisha Manjari
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
कृष्णकांत गुर्जर
" यादों की शमा"
Pushpraj Anant
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
सरस्वती वंदना-5
सरस्वती वंदना-5
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
Yogendra Chaturwedi
मैं तो महज शराब हूँ
मैं तो महज शराब हूँ
VINOD CHAUHAN
खुद को इतना हंसाया है ना कि
खुद को इतना हंसाया है ना कि
Rekha khichi
"वो पूछता है"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कौन हो तुम
कौन हो तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जमाना है
जमाना है
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
।।बचपन के दिन ।।
।।बचपन के दिन ।।
Shashi kala vyas
देह से विलग भी
देह से विलग भी
Dr fauzia Naseem shad
मन की दुनिया अजब निराली
मन की दुनिया अजब निराली
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आधार छंद - बिहारी छंद
आधार छंद - बिहारी छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
Guru Mishra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
Ravi Prakash
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बांदरो
बांदरो
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अवसाद
अवसाद
Dr Parveen Thakur
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो ,  प्यार की बौछार से उज
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो , प्यार की बौछार से उज
DrLakshman Jha Parimal
कौन किसके बिन अधूरा है
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
Loading...