Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

स्वदेशी

आवाहन हो गया देश में, अब स्वदेशी ही अपनाना है।
स्वावलंबी है भारतवासी, यही हमें बस दिखलाना है।।
अपना ही इंफ्रास्ट्रक्चर, अपना ही होगा कच्चा माल।
भारत का मज़दूर बनाये, सस्ता विश्व स्तर का माल।।
कसम हमें अब खानी है, घर माल विदेशी नहीं है लाना।
भारत निर्मित वस्तु खरीदें, जगत को बस ये है दिखलाना।।
देश का पैसा रहे देश में, हम सब को यह कर के दिखाना।
हर व्यक्ति सम्पन्न बनेगा, ऐसा हमको है कर के दिखाना।।
देश की इस युवा पीढ़ी को, चाहे जितना पड़े पढ़ाना।
काम मिले उसको भारत में, हमको यह माहौल बनाना।।
हर मज़दूर का अपना घर हो,हर बच्चे को हमें पढ़ाना।
भूख से ना कोई मरे देश में, भीख मांगने पड़े ना जाना।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी

Language: Hindi
5 Likes · 174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का दूसरा वर्ष (1960 - 61)*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का दूसरा वर्ष (1960 - 61)*
Ravi Prakash
रमणीय प्रेयसी
रमणीय प्रेयसी
Pratibha Pandey
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
कवि रमेशराज
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
Neelam Sharma
यदि  हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
यदि हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
Raju Gajbhiye
किताबों वाले दिन
किताबों वाले दिन
Kanchan Khanna
इम्तहान दे कर थक गया , मैं इस जमाने को ,
इम्तहान दे कर थक गया , मैं इस जमाने को ,
Neeraj Mishra " नीर "
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
*अजब है उसकी माया*
*अजब है उसकी माया*
Poonam Matia
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*गोल- गोल*
*गोल- गोल*
Dushyant Kumar
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
कृष्णकांत गुर्जर
Love life
Love life
Buddha Prakash
3005.*पूर्णिका*
3005.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
जरूरी और जरूरत
जरूरी और जरूरत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
शेखर सिंह
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कागज की कश्ती
कागज की कश्ती
Ritu Asooja
प्रेम करने आता है तो, प्रेम समझने आना भी चाहिए
प्रेम करने आता है तो, प्रेम समझने आना भी चाहिए
Anand Kumar
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
Anil Mishra Prahari
तुम - हम और बाजार
तुम - हम और बाजार
Awadhesh Singh
■ जय नागलोक
■ जय नागलोक
*प्रणय प्रभात*
आरती करुँ विनायक की
आरती करुँ विनायक की
gurudeenverma198
" रिन्द (शराबी) "
Dr. Kishan tandon kranti
हिंदी दोहा- अर्चना
हिंदी दोहा- अर्चना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...