Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन

स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन

“दादाजी इस साल मैं अपना बर्थ डे स्पेशल अंदाज में मनाना चाहता हूँ. इसके लिए मुझे आपकी मदद चाहिए.” चिंटू ने दादा जी से चहकते हुए कहा.
“मेरी मदद ? जरूर मिलेगी बरखुरदार. बोलो मैं इसमें तुम्हारी क्या मदद कर सकता हूँ.” दादा जी ने अपने सदाबहार अंदाज में कहा.
“वह स्पेशल अंदाज क्या होगा ? यही बताने में मुझे आपकी मदद चाहिए दादा जी.” चिंटू कहा.
“अच्छा, तो आइडिया बताना है मुझे ?” दादा जी बोले.
“हाँ दादा जी. कुछ अच्छा-सा आइडिया दीजिए, जिसे लोग वर्षों तक याद रखें.” चिंटू कहा.
“हूँ… चिंटू बेटा, आ गया मेरे दिमाग में एक धाँसू आइडिया.” दादा जी ने कहा.
“फिर जल्दी से बताइए न दादा जी. ज्यादा सस्पेंस मत क्रियेट कीजिए.” चिंटू उतावला होने लगा था.
“बेटा इस बार तुम दस साल के हो जाओगे. क्यों न तुम अपने जन्मदिन पर दस पौधे लगा कर उनकी पूरी देखभाल का प्रण लो. बस 4-5 साल देखभाल करनी है, फिर ये पौधे सैकड़ों साल तक पर्यावरण को स्वच्छ बनाते रहेंगे. तुम चाहो तो ये पौधे मैं तुम्हें कृषि विभाग से दिलवा दूंगा.” दादा जी ने समझाया.
“वाओ, व्हाट ए फेंटेस्टिक आईडिया. यू आर जीनियस दादा जी. मैं ऐसा ही करूंगा.” खुशी के मारे दादा जी को बांहों में भर लिया चिंटू ने. इस प्रकार दादा-पोता ने स्पेशल अंदाज में बर्थ डे मनाने के प्लान को अंतिम रूप दे दिया.
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
ज़िन्दगी के
ज़िन्दगी के
Santosh Shrivastava
डर  ....
डर ....
sushil sarna
राहों में
राहों में
हिमांशु Kulshrestha
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्यार की लौ
प्यार की लौ
Surinder blackpen
बरस रहे है हम ख्वाबो की बरसात मे
बरस रहे है हम ख्वाबो की बरसात मे
देवराज यादव
जिम्मेदारियां दहलीज पार कर जाती है,
जिम्मेदारियां दहलीज पार कर जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
शरद पूर्णिमा का चांद
शरद पूर्णिमा का चांद
Mukesh Kumar Sonkar
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
Sunil Suman
आया बसन्त आनन्द भरा
आया बसन्त आनन्द भरा
Surya Barman
एक अलग ही दुनिया
एक अलग ही दुनिया
Sangeeta Beniwal
सुहासिनी की शादी
सुहासिनी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
"ऐतबार"
Dr. Kishan tandon kranti
ना हो अपनी धरती बेवा।
ना हो अपनी धरती बेवा।
Ashok Sharma
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
Ranjeet kumar patre
शीर्षक – मां
शीर्षक – मां
Sonam Puneet Dubey
देना और पाना
देना और पाना
Sandeep Pande
"आए हैं ऋतुराज"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
Paras Nath Jha
*बहकाए हैं बिना-पढ़े जो, उनको क्या समझाओगे (हिंदी गजल/गीतिक
*बहकाए हैं बिना-पढ़े जो, उनको क्या समझाओगे (हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
3157.*पूर्णिका*
3157.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये तनहाई
ये तनहाई
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ कथ्य के साथ कविता (इससे अच्छा क्या)
■ कथ्य के साथ कविता (इससे अच्छा क्या)
*प्रणय प्रभात*
कौन ?
कौन ?
साहिल
जीवन उद्देश्य
जीवन उद्देश्य
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...