Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2017 · 1 min read

स्नेह-बदली

“स्नेह-बदली”
—————–

स्नेह-बदली
तुम बनकर बरसो !
मेरे हृदय-आकाश में !
कभी बरसो तुम !
सावन में !
और कभी बरसो
मधुमास में ||
मौहब्बत का
तुम भाग्य लिखो।
मेरे दिल की धड़कन में
जज्बातों का भाग्य बनो !
सूने दिल की तड़पन में ||
अमावस्या को दूर करो !
तुम बनो पूर्णिमा माघ की !
हे ! “दीप-शिखा” हृदय बस जाओ !!
तुम बनकर होली फाग की ||
——————————
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Language: Hindi
494 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चलती है जिंदगी
चलती है जिंदगी
डॉ. शिव लहरी
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
Dr Archana Gupta
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
जय श्री गणेशा
जय श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
दुकान में रहकर सीखा
दुकान में रहकर सीखा
Ms.Ankit Halke jha
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
समर्पण.....
समर्पण.....
sushil sarna
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
विमला महरिया मौज
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
फायदे का सौदा
फायदे का सौदा
ओनिका सेतिया 'अनु '
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
सफलता का बीज
सफलता का बीज
Dr. Kishan tandon kranti
आज
आज
Shyam Sundar Subramanian
कविता
कविता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
■ मंगलकामनाएं
■ मंगलकामनाएं
*Author प्रणय प्रभात*
*दादी की बहादुरी*
*दादी की बहादुरी*
Dushyant Kumar
अस्थिर मन
अस्थिर मन
Dr fauzia Naseem shad
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
gurudeenverma198
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मुझे आज तक ये समझ में न आया
मुझे आज तक ये समझ में न आया
Shweta Soni
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
मेरी मलम की माँग
मेरी मलम की माँग
Anil chobisa
Loading...