Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 7, 2016 · 1 min read

स्त्री

स्त्री है ये
थक नहीं सकती है ये
रुक नहीं सकती है ये
आये जो कोई बाँधा तो
झुक नहीं सकती है ये
स्त्री है ये!!
जो हमेशा ताप दे
एक वो अंगार है
जो हमेशा प्रकाश दे
एक वो दीप है
आये जो कोई आँधी तो
बुझ नहीं सकती है ये
स्त्री है ये!!

248 Views
You may also like:
प्यार
Satish Arya 6800
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
मंगलसूत्र
संदीप सागर (चिराग)
💐💐प्रेम की राह पर-21💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रेयसी पुनीता
Mahendra Rai
संविधान की गरिमा
Buddha Prakash
कुछ काम करो
Anamika Singh
चेहरा
शिव प्रताप लोधी
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
डर
"अशांत" शेखर
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
✍️शरारत✍️
"अशांत" शेखर
बाल वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
एक पिता की जान।
Taj Mohammad
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
यह चिड़ियाँ अब क्या करेगी
Anamika Singh
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ख्वाब ही जीवन है
Mahendra Rai
Loading...