Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 2 min read

स्त्री मन

विधा-कविता
शीर्षक-स्त्री है रिश्तों में प्रधान

स्त्री के मन की थाय न जान सका है कोई ओर।
स्त्री मन है सागर,रात गई, बात गई हुई सुहानी भोर।।

सब कुछ सहती,पर घर परिवार के खातिर,उफ़ न करती।
पृथ्वी जैसी सहनशील, और पर्वत जैसे धेर्यवान है ममता और करूणा की मूर्ति।।

बेटी से लेकर देवी तक,हर रूप में हैं पूजी जाती।
फिर भी समाज में नारी अबला ही कहलाती।।

मैं इक स्त्री हूं, फिर भी स्त्री के मन को वया न कर पाती।
चाहें कितने भी दुख दर्द हो, पर वह चारों पहर मुस्काती।।

भगवान ने फुरसत से बनाया स्त्री को,पर भूला उसके मन को।
स्वयं है जगत जननी, पर पाती है असुरक्षित स्वयं को।।

स्त्री मन है प्यार का सागर, जहां मिलें प्रेम, समर्पित हो जाती।
सबके सपनों के खातिर, अपने सपने कभी संजो न पाती।।

त्याग की देवी है स्त्री, स्त्री से ही है सारे रिश्ते नाते।
लक्ष्मी, सरस्वती,शारदा, दुर्गा सारी शक्ति है स्त्री में है, हम सब गाते।।

स्त्री है पृथ्वी की धुरी, वंदना अर्चना, पूजा ,आराधना, प्रेरणा, आरती, संध्या सब में पाई जाती।
दो मीठे बोल की खातिर अपना सर्वस्व कुर्बान करती।।

अपने कर्तव्यों को पूरा कर, अधिकारों की भनक न लगने देती ।
स्त्री मन है महान, देती है जीवन भर, पर लेने का नाम न लेती।।

नव रसों से कर श्रृंगार,रिश्तों के बंधन को प्रेम से सींचा करती।
निस्वार्थ भाव से करती जीवन आलोकित, शिकायत कभी ना करती।।

स्त्री मन है बृहमांड जैसा विशाल,
हैं श्रृष्टि की रचनाकार,पर अहिकार नहीं करती।
सीता, राधा, मीरा बन ,हर युग में संस्कृति ,सभ्यता व संस्कारों का संरक्षण करती।।

मां,वेटी,वहन, पत्नी, दादी, नानी, बुआ सब रिश्तों में है स्त्री विद्धमान।
अवला नहीं सवला कहो, स्त्री को फुरसत से बनाया है आपने भगवान।।

तुम बिन नहीं है,तीनों लोकों में समाज की कल्पना।
नारी है प्रथ्वी की धुरी, संसार की रचाई तूने अल्पना।।

विभा जैन( ओज्स)
इंदौर (मध्यप्रदेश)

Language: Hindi
1 Like · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2331.पूर्णिका
2331.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
सत्य कुमार प्रेमी
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
Shweta Soni
* नदी की धार *
* नदी की धार *
surenderpal vaidya
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जी रही हूँ
जी रही हूँ
Pratibha Pandey
*चाल*
*चाल*
Harminder Kaur
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कोई तो डगर मिले।
कोई तो डगर मिले।
Taj Mohammad
" बीकानेरी रसगुल्ला "
Dr Meenu Poonia
इस तरफ न अभी देख मुझे
इस तरफ न अभी देख मुझे
Indu Singh
मौन के प्रतिमान
मौन के प्रतिमान
Davina Amar Thakral
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
19. कहानी
19. कहानी
Rajeev Dutta
"" *समय धारा* ""
सुनीलानंद महंत
प्रकाश परब
प्रकाश परब
Acharya Rama Nand Mandal
...,,,,
...,,,,
शेखर सिंह
मेरे होंठों पर
मेरे होंठों पर
Surinder blackpen
आंखन तिमिर बढ़ा,
आंखन तिमिर बढ़ा,
Mahender Singh
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
Umender kumar
कांटों के संग जीना सीखो 🙏
कांटों के संग जीना सीखो 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पानी से पानी पर लिखना
पानी से पानी पर लिखना
Ramswaroop Dinkar
चौपई /जयकारी छंद
चौपई /जयकारी छंद
Subhash Singhai
*आया भैया दूज का, पावन यह त्यौहार (कुंडलिया)*
*आया भैया दूज का, पावन यह त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आहट बता गयी
आहट बता गयी
भरत कुमार सोलंकी
बहाना मिल जाए
बहाना मिल जाए
Srishty Bansal
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...