Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

स्त्रीलिंग…एक ख़ूबसूरत एहसास

स्त्रीलिंग पर जो मात्राएं
स्वर-व्यंजन के रूप में लगती हैं
वो उनके उच्चारण पर
गहनों सी सजती हैं ,

कहीं कानों के झुमके
किसी शब्द पर चूड़ियों सी ख़नख़ती
कहीं कमर की करधनी
कहीं पंक्तियों में पायल है छनकती ,

ये स्त्रियां अपनी पहचान
हर जगह बख़ूबी हैं छोड़तीं
किसी भी खाली किताब को
ख़ूबसूरत कहानियों से हैं भर देतीं ,

मन कितना भी खाली हो
ऑंखों में सपने भर कर रहती हैं
सीधे सपाट शब्दों को भी
मात्राओं से संवार कर रखती हैं ,

इनके होने का ख़ुबसूरत एहसास
खंडहरों को भी गुलज़ार करता है
शब्द संकलन भी इन मात्राओं से
ख़ुद को शब्दकोश कहता है ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा )

64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
Kailash singh
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अगनित अभिलाषा
अगनित अभिलाषा
Dr. Meenakshi Sharma
मैं और मेरी तन्हाई
मैं और मेरी तन्हाई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"उई मां"
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कल आज और कल
कल आज और कल
Omee Bhargava
रंगों का नाम जीवन की राह,
रंगों का नाम जीवन की राह,
Neeraj Agarwal
कृपया मेरी सहायता करो...
कृपया मेरी सहायता करो...
Srishty Bansal
6-
6- "अयोध्या का राम मंदिर"
Dayanand
आज की तारीख हमें सिखा कर जा रही है कि आने वाली भविष्य की तार
आज की तारीख हमें सिखा कर जा रही है कि आने वाली भविष्य की तार
Seema Verma
Love life
Love life
Buddha Prakash
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
शेखर सिंह
*गैरों सी! रह गई है यादें*
*गैरों सी! रह गई है यादें*
Harminder Kaur
तुम्हारी यादें
तुम्हारी यादें
अजहर अली (An Explorer of Life)
हिंदी दोहा- अर्चना
हिंदी दोहा- अर्चना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आदमियों की जीवन कहानी
आदमियों की जीवन कहानी
Rituraj shivem verma
बखान सका है कौन
बखान सका है कौन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
VINOD CHAUHAN
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
Smriti Singh
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हसदेव बचाना है
हसदेव बचाना है
Jugesh Banjare
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
gurudeenverma198
*आया चैत सुहावना,ऋतु पावन मधुमास (कुंडलिया)*
*आया चैत सुहावना,ऋतु पावन मधुमास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"ग़ौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
Rj Anand Prajapati
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
सपनों को अपनी सांसों में रखो
सपनों को अपनी सांसों में रखो
Ms.Ankit Halke jha
Loading...