Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Sep 2022 · 1 min read

कविता: स्कूल मेरी शान है

शिक्षक दिवस पर विशेष कविता: स्कूल मेरी शान है।
****************************************

स्कूल मेरी शान है स्कूल मेरी जान है।
पढ़ लो बेटी पढ़ लो बेटा, सर्व शिक्षा अभियान है।।

स्कूल अगर न होता तो, मैं शिक्षक न बन पाता,
पशु समान जीवन होता, मैं इंसान न बन पाता।,
जहाँ जाति धर्म का भेद नही, वो मानवता की खान है।।
स्कूल मेरी शान है………

नन्हे मुन्ने बच्चों में मन मेरा भाता है,
हूँ तो एक साधारण व्यक्ति, पर हर कोई गुरुजी बुलाता है।
मिला न ऐसा मान मुझको, मिलता अब सम्मान है।।
स्कूल मेरी शान है………

हिंदी करलव हो गयी, गणित हुआ है गिनतारा,
अंग्रेजी रेनबो कहलाती सामाजिक विषय परिवेश हमारा,
संस्कृत संस्कृत पीयूषम बन गयी, परख बना विज्ञान है।।
स्कूल मेरी शान है………

सरकार की नीति में बड़ा बदलाव आया है,
गरीब बच्चों की खातिर मध्यान्ह भोजन बनवाया है।
फल खाते दूध पीते, बच्चे बनते अब बलवान हैं।।
स्कूल मेरी शान है………

अभिभावक अब सभी शुल्कों से दूर हैं,
निःशुल्क किताबे निःशुल्क बस्ते जूते मौजे भरपूर हैं।
सर्दी में स्वेटर बंटता ,बंटते दो दो जोड़ी परिधान हैं।।
स्कूल मेरी शान है………

नाम मेरा राजेश है अर्जुन मैं कहलाता हूँ,
शिक्षा की गांडीव से मैं शब्दों के तीर चलाता हूँ।
शिक्षा ही मेरा धर्म है, शिक्षा ही ईमान है।।
स्कूल मेरी शान है………

स्कूल मेरी शान है स्कूल मेरी जान है।
पढ़ लो बेटी पढ़ लो बेटा, सर्व शिक्षा अभियान है।।

****************📚*****************

स्वरचित कविता 📝
✍️रचनाकार:
राजेश कुमार अर्जुन

6 Likes · 3 Comments · 816 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
ख़ान इशरत परवेज़
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
🙅अक़्लमंद🙅
🙅अक़्लमंद🙅
*प्रणय प्रभात*
वीर-जवान
वीर-जवान
लक्ष्मी सिंह
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
कवि रमेशराज
मेला
मेला
Dr.Priya Soni Khare
महसूस होता है जमाने ने ,
महसूस होता है जमाने ने ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
"शायरा सँग होली"-हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कवि दीपक बवेजा
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
??????...
??????...
शेखर सिंह
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
उनकी उल्फत देख ली।
उनकी उल्फत देख ली।
सत्य कुमार प्रेमी
संवादरहित मित्रों से जुड़ना मुझे भाता नहीं,
संवादरहित मित्रों से जुड़ना मुझे भाता नहीं,
DrLakshman Jha Parimal
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Sakshi Tripathi
मानव हो मानवता धरो
मानव हो मानवता धरो
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एक मशाल तो जलाओ यारों
एक मशाल तो जलाओ यारों
नेताम आर सी
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ शब्द
कुछ शब्द
Vivek saswat Shukla
दान की महिमा
दान की महिमा
Dr. Mulla Adam Ali
हार को तिरस्कार ना करें
हार को तिरस्कार ना करें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...