Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 2 min read

सोच

गिरी हुई सोच को पर कैसे लगें?
सुना है, ज़ख्मी परिंदों को आसमान नहीं मिलता।
उड़ती हुई सोच को कैसे रोकें?
एयरपोर्ट आने से पहले प्लेन लैंड नहीं करता।

राह पर चलते वक्त सिक्का गिरा,
तुरंत झुककर उठा लिए।
देखो, हमारी सोच गिरी है,
उसको कब उठाएंगे?

“अरे, उठा लूं जल्दी से सिक्का,
वरना कोई उठा ले जाएगा।”
ऐसा डर ऐ नादान,
कब तेरे दिल पर छा पाएगा?

अपनी सोच को उठा ले बन्दे,
वरना बहुत पछताएगा।
सब हँसेंगे तुझपे,
और तू बस हाथ मलता रह जाएगा।

कैसे बताऊं मैं, “कैसी सोच को बदलना है?!”
अख़बार पढ़ो, ख़ुद समझ जाओगे।
पढ़ने के बाद ये ज़रूर सोचना,
“ख़ुद को कब समझाओगे?!”

अपनी सोच को अपनी मुट्ठी में ही बांधे रखना।
अपनी उस सोच को ऊपर बिल्कुल मत उछालना।
उछाली हुई सोच, तुरंत उड़ने लग जाएगी।
रेत-सी है वो, हाथ में नहीं आएगी।

अब सवाल ये उठता है,
“तो हम क्या करें?”
चलो, भागदौड़-भरी बदलती इस दुनिया में,
अपनी सोच को लेकर आगे बढ़ें!

ज़माना बदल गया, लोग बदल गए।
क्यों न अपनी सोच को भी बदल लिया जाए?!
लेकिन संभलकर, इस क़दर,
कि किसी के संस्कारों को नुकसान न पहुँचाएं!

चलो, अपनी बदली हुई सोच के साथ उड़ा जाए।
उड़ें हम इस तरह कि परिंदों को तकलीफ़ न हो पाएं।

न अपनी सोच को ज़्यादा उड़ने देंगे,
न इसे ज़मीन ज़्यादा छूने देंगे।
बस, हाथ पकड़कर इसका,
हम आगे बढ़ चलेंगे।

इस अंधेर-भरी दुनिया में,
अपनी सोच से रौशनी लाएंगे।
इस सोती हुई दुनिया में,
सबको नींद से जगाएंगे।

सोच से अपनी, नया सवेरा लाएंगे।
ख़ुद सो जाएंगे भले ही हमेशा के लिए,
लेकिन कभी अपनी सोच को नहीं सुलाएंगे।

✍️सृष्टि बंसल

Language: Hindi
1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*** तस्वीर....! ***
*** तस्वीर....! ***
VEDANTA PATEL
ऋतुराज वसंत (कुंडलिया)*
ऋतुराज वसंत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मां के आंचल में
मां के आंचल में
Satish Srijan
उज्ज्वल भविष्य हैं
उज्ज्वल भविष्य हैं
TARAN VERMA
2468.पूर्णिका
2468.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
किसी नौजवान से
किसी नौजवान से
Shekhar Chandra Mitra
दिल हो काबू में....😂
दिल हो काबू में....😂
Jitendra Chhonkar
प्रेम
प्रेम
Bodhisatva kastooriya
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ग़लत समय पर
ग़लत समय पर
*Author प्रणय प्रभात*
अध खिला कली तरुणाई  की गीत सुनाती है।
अध खिला कली तरुणाई की गीत सुनाती है।
Nanki Patre
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सत्यं शिवम सुंदरम!!
सत्यं शिवम सुंदरम!!
ओनिका सेतिया 'अनु '
कभी गिरने नहीं देती
कभी गिरने नहीं देती
shabina. Naaz
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
Shankar N aanjna
*जिंदगी के अनोखे रंग*
*जिंदगी के अनोखे रंग*
Harminder Kaur
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
★क़त्ल ★
★क़त्ल ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
"अकेले रहना"
Dr. Kishan tandon kranti
पूछा किसी ने  इश्क में हासिल है क्या
पूछा किसी ने इश्क में हासिल है क्या
sushil sarna
I am Cinderella
I am Cinderella
Kavita Chouhan
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
Ajay Kumar Vimal
समय पर संकल्प करना...
समय पर संकल्प करना...
Manoj Kushwaha PS
परिवार
परिवार
Neeraj Agarwal
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
gurudeenverma198
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...