Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

सोचता हूं कैसे भूल पाऊं तुझे

सपना सोते हुए ना, दिखाओ मुझे
अपनी यादों से, अब ना, सताओ मुझे
चाह कर भी ना, अपना कह पाऊं तुझे
सोचता हूँ मैं कैसे, भूल पाऊँ तुझे

बैठे – बैठे बीत जाते, घड़ी दो घड़ी
कैसे जोड़ों तेरे बीन, जीवन की कड़ी
कोयल बनके मैं लोरी सुनाऊं तुझे
सोचता हूँ मैं कैसे, भूल पाऊँ तुझे

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Er.Navaneet R Shandily
View all
You may also like:
अन्त हुआ सब आ गए, झूठे जग के मीत ।
अन्त हुआ सब आ गए, झूठे जग के मीत ।
sushil sarna
शाहकार (महान कलाकृति)
शाहकार (महान कलाकृति)
Shekhar Chandra Mitra
BUTTERFLIES
BUTTERFLIES
Dhriti Mishra
मित्रता
मित्रता
Mahendra singh kiroula
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
आदमी से आदमी..
आदमी से आदमी..
Vijay kumar Pandey
होली गीत
होली गीत
Kanchan Khanna
कलियुग की संतानें
कलियुग की संतानें
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
गम खास होते हैं
गम खास होते हैं
ruby kumari
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
Sanjay ' शून्य'
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
DrLakshman Jha Parimal
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
Surinder blackpen
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / मुसाफ़िर बैठा
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ज़िंदगी है,
ज़िंदगी है,
पूर्वार्थ
ख़ामोशी
ख़ामोशी
कवि अनिल कुमार पँचोली
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
एक शाम उसके नाम
एक शाम उसके नाम
Neeraj Agarwal
सुकर्म से ...
सुकर्म से ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
"दिमागी गुलामी"
Dr. Kishan tandon kranti
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुन लो मंगल कामनायें
सुन लो मंगल कामनायें
Buddha Prakash
देखिए मायका चाहे अमीर हो या गरीब
देखिए मायका चाहे अमीर हो या गरीब
शेखर सिंह
प्रतिश्रुति
प्रतिश्रुति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
महल था ख़्वाबों का
महल था ख़्वाबों का
Dr fauzia Naseem shad
*देव हमें दो शक्ति नहीं ज्वर, हमें हराने पाऍं (हिंदी गजल)*
*देव हमें दो शक्ति नहीं ज्वर, हमें हराने पाऍं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...