Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2017 · 1 min read

सेकेट्री साहब

कल मैं पहुंचा था
पंचायत समिति
किसी जरुरी काम से
सहर्ष, बड़े आराम से।
पहुँच कर पंचायत समिति
सेकेट्री को फ़ोन किया –
“सर, लेना है मुझे चेक आपसे ”
उसने मुझे अपने घर बुलाया
मैं पहुँच गया घर बड़ी शान से
आंटी जी!
सेकेट्री साहब हैं क्या घर?
बेटा वो तो आये ही नहीं घर
कल शाम से।
मैंने फिर फ़ोन किया –
“साहब कहाँ हो? सच बताना ईमान से”
मैं पंचायत समिति आ गया बेटा
तुम वहीँ पहुँचो
कुछ वाहन से ।
तुरंत,
मैं पंचायत समिति पहुँचा
वहाँ भी सेकेट्री साहब का
रूम मिला खाली
अब तो बजने लगी थी
मेरे क्रोधित मस्तिष्क की ताली।
फिर मैंने फ़ोन किया
पता चला-
साहब, तहसील पहुंच गए हैं
मैं वहाँ भी पहुंचा
मुझे वहाँ भी वे नहीं मिले
मैंने उन्हें फिर फ़ोन किया
कहा-
सर, ये तो है आपकी मक्कारी
सच बताओ साहब कहाँ हो।
बेटा मैं घर हूँ
ऐसी फिर मारी
उन्होंने बात जाली
पुनः साहब का घर मिला खाली
मैं व्यथित हूँ
कौन करेगा
इन दलालों की रखवाली।
अंततः, मुझे एहसास हो गया
कुछ मतलब नहीं इनको
हम जैसे इंसान से
इनकी ही वजह से देश
नहीं हुआ प्रज्ज्वलित
विकास की मशान से।

नरेश मौर्य

Language: Hindi
310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
पूर्वार्थ
"अजब-गजब मोहब्बतें"
Dr. Kishan tandon kranti
*उधार का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
*उधार का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
खुदकुशी नाहीं, इंकलाब करअ
खुदकुशी नाहीं, इंकलाब करअ
Shekhar Chandra Mitra
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
राम विवाह कि मेहंदी
राम विवाह कि मेहंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
Ranjeet kumar patre
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सियासत हो
सियासत हो
Vishal babu (vishu)
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
कवि दीपक बवेजा
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
गीत गाने आयेंगे
गीत गाने आयेंगे
Er. Sanjay Shrivastava
Meri asuwo me use rokane ki takat hoti
Meri asuwo me use rokane ki takat hoti
Sakshi Tripathi
8. टूटा आईना
8. टूटा आईना
Rajeev Dutta
"सुखी हुई पत्ती"
Pushpraj Anant
कम्बखत वक्त
कम्बखत वक्त
Aman Sinha
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
कृष्णकांत गुर्जर
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
#संकट-
#संकट-
*Author प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम कौतुक-230💐
💐प्रेम कौतुक-230💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
Atul "Krishn"
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Safar : Classmates to Soulmates
Safar : Classmates to Soulmates
Prathmesh Yelne
भ्रम
भ्रम
Shyam Sundar Subramanian
Loading...