Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2022 · 1 min read

सुबह की किरणों ने, क्षितिज़ को रौशन किया कुछ ऐसे, मद्धम होती साँसों पर, संजीवनी का असर हुआ हो जैसे।

चलने लगे हैं, वो कदम मेरे साथ कुछ ऐसे,
की लहरों का अस्तित्व जुड़ा हो, सागर के नाम से जैसे।
अँधेरे की इनायतें हुईं हैं, किस्मत की लक़ीरों पर ऐसे,
की टूटते तारे ने मन्नतें पूरी की हों, बिना कुछ मांगे जैसे।
आँखों में बसे आंसुओं ने, घर छोड़ा कुछ ऐसे,
की बसा कर चले गए हों, आँखों में नये ख़्वाबों को जैसे।
बातें होती हैं, बेमकसद सी, बेबाक सी ऐसे,
की मुस्कुराना सीखा दिया हो, मुझे भी अब खुद के जैसे।
सुबह की किरणों ने, क्षितिज़ को रौशन किया कुछ ऐसे,
मद्धम होती साँसों पर, संजीवनी का असर हुआ हो जैसे।
दरवाज़े खुलने लगे हैं अब, बिना दस्तक दिए कुछ ऐसे,
की ज़वाब मिलने लगे हों, सवालों के बिना कुछ पूछे जैसे।
पहचानने लगीं हैं, रूठी गलियां फिर से हमें ऐसे,
गुमनामी में गुम रहकर भी, बन गया हो नाम हमारा जैसे।
छंटने लगे हैं आसमान से, बादल दर्द के कुछ ऐसे,
की कृष्णा ने सुदर्शन छोड़, बजायी हो बंसी मधुबन में जैसे।

2 Likes · 2 Comments · 292 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
मेरा तोता
मेरा तोता
Kanchan Khanna
कुदरत का प्यारा सा तोहफा ये सारी दुनियां अपनी है।
कुदरत का प्यारा सा तोहफा ये सारी दुनियां अपनी है।
सत्य कुमार प्रेमी
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
..
..
*प्रणय प्रभात*
"दोस्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
The_dk_poetry
पुस्तक समीक्षा- उपन्यास विपश्यना ( डॉ इंदिरा दांगी)
पुस्तक समीक्षा- उपन्यास विपश्यना ( डॉ इंदिरा दांगी)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आशिकी
आशिकी
साहिल
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
मुस्कानों की बागानों में
मुस्कानों की बागानों में
sushil sarna
*झंडा (बाल कविता)*
*झंडा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
Manisha Manjari
विषय -घर
विषय -घर
rekha mohan
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इक रोज़ हम भी रुखसत हों जाएंगे,
इक रोज़ हम भी रुखसत हों जाएंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr Shweta sood
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
gurudeenverma198
अनकहा रिश्ता (कविता)
अनकहा रिश्ता (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
Basant Bhagawan Roy
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मां बेटी
मां बेटी
Neeraj Agarwal
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
Pramila sultan
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*खादिम*
*खादिम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
DrLakshman Jha Parimal
आज कल पढ़ा लिखा युवा क्यों मौन है,
आज कल पढ़ा लिखा युवा क्यों मौन है,
शेखर सिंह
Loading...