Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2023 · 1 min read

” सुन‌ सको तो सुनों “

सुन सको तो सुनों दिल ये मेरा क्या कहता है….!
बनकर धड़कन देखों तुझमें ही तो रहता है….!

फुरसत से कभी इन हवाओं के झोकों से पूछ लेना,
बस एक तुम्हारा ही तो नाम मेरे मन में भरता है….!

रोजाना करता है बातें तुम्हारी न जाने फिर क्यों
ये दिल मेरा, सामने तुम्हारे आने से डरता है….!

अब कहाँ से लाए हम तुम्हारी तारीफ़ में कोई शब्द
तुमकों देखकर तो खुद आईना भी सँवरता है….!

ये सावन की बूंदें सुनों उनसें जाकर ये कहना
इश्क़ उनका आज भी आँखों से आँसू बनकर बहता है….!

लेखिका- आरती सिरसाट
बुरहानपुर मध्यप्रदेश
मौलिक एवं स्वरचित रचना

Language: Hindi
276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Sakshi Tripathi
बिहार में डॉ अम्बेडकर का आगमन : MUSAFIR BAITHA
बिहार में डॉ अम्बेडकर का आगमन : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रास्ते फूँक -फूँककर चलता  है
रास्ते फूँक -फूँककर चलता है
Anil Mishra Prahari
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
Jitendra Chhonkar
"तेरे लिए.." ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
#व्यंग्य_काव्य
#व्यंग्य_काव्य
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ते
रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
ये मेरे घर की चारदीवारी भी अब मुझसे पूछती है
ये मेरे घर की चारदीवारी भी अब मुझसे पूछती है
श्याम सिंह बिष्ट
प्रवासी चाँद
प्रवासी चाँद
Ramswaroop Dinkar
जबरदस्त विचार~
जबरदस्त विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
एक
एक
हिमांशु Kulshrestha
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
Vishal babu (vishu)
अटल-अवलोकन
अटल-अवलोकन
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
चलो आज कुछ बात करते है
चलो आज कुछ बात करते है
Rituraj shivem verma
सूर्यदेव
सूर्यदेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
Vindhya Prakash Mishra
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फिर आई स्कूल की यादें
फिर आई स्कूल की यादें
Arjun Bhaskar
उम्र अपना
उम्र अपना
Dr fauzia Naseem shad
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
पुस्तक समीक्षा - अंतस की पीड़ा से फूटा चेतना का स्वर रेत पर कश्तियाँ
पुस्तक समीक्षा - अंतस की पीड़ा से फूटा चेतना का स्वर रेत पर कश्तियाँ
डॉ. दीपक मेवाती
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
आज हम याद करते
आज हम याद करते
अनिल अहिरवार
क्या वायदे क्या इरादे ,
क्या वायदे क्या इरादे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
Bodhisatva kastooriya
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...