Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2024 · 1 min read

I guess afterall, we don’t search for people who are exactly

I guess afterall, we don’t search for people who are exactly like us.
We search for someone that we won’t feel awkward or shy with.
Someone who would have flaws you could deal with.
Someone that enjoy the little details. Someone who loves life as much as you do.
Someone who would drive for hours to see you for minutes.
We don’t search for our copies, we search for souls who were born to live.
Souls who insist to live to the fullest.

1 Like · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सृष्टि भी स्त्री है
सृष्टि भी स्त्री है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
" पहला खत "
Aarti sirsat
ग़ज़ल:- रोशनी देता है सूरज को शरारा करके...
ग़ज़ल:- रोशनी देता है सूरज को शरारा करके...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
कितना गलत कितना सही
कितना गलत कितना सही
Dr. Kishan tandon kranti
याद आती है हर बात
याद आती है हर बात
Surinder blackpen
*साठ बरस के हो गए, हुए सीनियर आज (हास्य कुंडलिया)*
*साठ बरस के हो गए, हुए सीनियर आज (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आटा
आटा
संजय कुमार संजू
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
Ram Krishan Rastogi
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
manjula chauhan
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
DrLakshman Jha Parimal
3550.💐 *पूर्णिका* 💐
3550.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
हिंदी दोहा- अर्चना
हिंदी दोहा- अर्चना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मोहब्बत के बारे में तू कोई, अंदाजा मत लगा,
मोहब्बत के बारे में तू कोई, अंदाजा मत लगा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सितम फिरदौस ना जानो
सितम फिरदौस ना जानो
प्रेमदास वसु सुरेखा
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
दर्द की धुन
दर्द की धुन
Sangeeta Beniwal
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
🙅भविष्यवाणी🙅
🙅भविष्यवाणी🙅
*प्रणय प्रभात*
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
पूर्वार्थ
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
कामयाबी का
कामयाबी का
Dr fauzia Naseem shad
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
Nidhi Kumar
सच
सच
Neeraj Agarwal
बीन अधीन फणीश।
बीन अधीन फणीश।
Neelam Sharma
Loading...