Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 2 min read

सुनो पहाड़ की….!!! (भाग – ३)

आकृति भी मानो मेरे हृदय में उठे प्रश्न को जान गयी, तुरन्त ही उसने कहना आरम्भ किया कि क्या तुम नहीं पहचान सकीं मुझे ? मैं वही हूँ जिससे मिलने तुम यहाँ खिंची चली आयी हो, अरे मैं पहाड़ हूँ। वही पहाड़ जिसकी कल्पना में तुम अक्सर अपने घर पर भी खोयी रहती हो। बहुत लगाव है न तुम्हें मुझसे, मेरी वादियों से, हरियाली से और यहाँ के मस्त मौसम से, इसलिये अवसर पाते ही चली आती हो यहाँ। लेकिन यह तो बताओ यह जो यहाँ के वातावरण से इतना लगाव है तुम्हारा तो क्या कभी सोचा भी इस वातावरण के बारे में, कभी भूल से भी आया है ख्याल इसे सँजोये रखने या इसकी देखरेख करने का। जिस प्रकार तुम्हें मेरी याद आती है, जरूरत होती है, उसी प्रकार मुझे भी जरूरत है तुम्हारे साथ की, देखरेख की। किन्तु तुम मनुष्य शायद यह कभी समझ नहीं सकोगे क्योंकि तुम तो यहाँ मेरे आँगन में मौजमस्ती के लिये चले आते हो। तुमने कहाँ कभी हमारे (प्रकृति) बारे में सोचा है और सच पूछो तो हम तो बहुत खुश थे अपने जीवन में। बहुत सादगीपूर्ण जीवन था हमारा, एकदम मस्त और खुशहाल, हरा-भरा सौन्दर्यपूर्ण। कलकल बहती नदियाँ, झूमते पेड़ और शीतल ताजा पवन जो सदियों से हमारे साथी, हमारी प्रसन्नता के साक्षी थे। तुम मनुष्यों ने….!!

नींद में खोयी मैं पहाड़ से उसकी गाथा सुनने में मगन थी कि अचानक मुझे भूकम्प सा आता महसूस हुआ और झटके से मैं उठ बैठी। देखा कि अर्पण मुझे कंधे से हिला कर उठा रहा था। मैं चकित सी उसे देखने लगी तो वह हँसते हुए कहने लगा कि कब तक सोती रहोगी दीदी ? अब तो रात के खाने का समय भी हो गया है। अब तक मैं नींद से पूरी तरह बाहर आ गयी थी।

आश्रम के नियमानुसार भोजन के लिये हाल में जाकर अपनी थाली स्वयं लगाकर पंगत में बैठकर भोजन करना था। अतः हम तीनों यानि मैं, अर्पण और अमित पंगत में बैठकर भोजन करने लगे किन्तु इस बीच मेरा सारा ध्यान नींद में पहाड़ से हुई वार्ता में ही अटका हुआ था। भोजन के बाद हम तीनों अपने कमरे में लौट आए। आपस में अगले दिन का कार्यक्रम तय करके हमने अपने रात्रि के आवश्यक कार्य निपटाये और कुछ मनोरंजन के उद्देश्य से अपने – अपने मोबाइल में व्यस्त हो गये और नींद आने पर मोबाइल रखकर एक बार फिर मैं सुबह होने तक के लिये सो गयी।

(क्रमश:)
(तृतीय भाग समाप्त)

रचनाकार :- कंचन खन्ना, मुरादाबाद,
(उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- ०८/०७/२०२२.

270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
हत्या-अभ्यस्त अपराधी सा मुख मेरा / MUSAFIR BAITHA
हत्या-अभ्यस्त अपराधी सा मुख मेरा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"तवा"
Dr. Kishan tandon kranti
International Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"आज मैं काम पे नई आएगी। खाने-पीने का ही नई झाड़ू-पोंछे, बर्तन
*Author प्रणय प्रभात*
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बहुत याद आता है
बहुत याद आता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
Manisha Manjari
क्यों न्यौतें दुख असीम
क्यों न्यौतें दुख असीम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
Mukesh Kumar Sonkar
ना नींद है,ना चैन है,
ना नींद है,ना चैन है,
लक्ष्मी सिंह
मजदूर
मजदूर
Preeti Sharma Aseem
हमेशा भरा रहे खुशियों से मन
हमेशा भरा रहे खुशियों से मन
कवि दीपक बवेजा
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
Gouri tiwari
भारत है वो फूल (कविता)
भारत है वो फूल (कविता)
Baal Kavi Aditya Kumar
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
Sanjay ' शून्य'
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
शायर देव मेहरानियां
मोहब्बत और मयकशी में
मोहब्बत और मयकशी में
शेखर सिंह
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
नवरात्रि - गीत
नवरात्रि - गीत
Neeraj Agarwal
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
VINOD CHAUHAN
टेसू के वो फूल कविताएं बन गये ....
टेसू के वो फूल कविताएं बन गये ....
Kshma Urmila
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
कार्तिक नितिन शर्मा
नसीब तो ऐसा है मेरा
नसीब तो ऐसा है मेरा
gurudeenverma198
छठ पूजा
छठ पूजा
Satish Srijan
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2730.*पूर्णिका*
2730.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खरा इंसान
खरा इंसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...