Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Dec 2023 · 3 min read

सुनो पहाड़ की….!!! (भाग – १)

और फिर एक बार हम निकल पड़े। आखिर कब तक व्यक्ति मन को बाँध सकता है? मन तो चचंल व हठी है। एक बार जो ठान ले, बस किसी साधू – सन्यासी सा अटल धूनी रमा अपनी हठ पर डट जाता है। हमारा भी यही हाल था। पिछले कुछ दिनों से जब से अप्रैल का महीना आरम्भ हुआ और मौसम ने सर्दी से गर्मी की ओर करवट लेना शुरू किया, छोटे भाई अर्पण का किसी हिल – स्टेशन की यात्रा पर चलने का आग्रह भी आरम्भ हो गया। पिछले दो सीजन से कोरोना संक्रमण के चलते
शहर से कहीं बाहर जाना नहीं हो सका था। परिस्थितियाँ ही ऐसी हो गयी थीं कि शहर तो शहर व्यक्ति बस घर के भीतर ही कैदी सा हो गया था।
इस वर्ष परिस्थितियों में बदलाव हुआ तो मन रूपी पंछी परिवर्तन की उड़ान हेतु उत्सुक हो, प्रकृति की सुरम्य, घनी छाँव लिए पहाड़ों की ओर चलने को मचलने लगा। अप्रैल की समाप्ति के साथ ही हम ऋषिकेश, हरिद्वार की ओर चल पड़े। अर्पण के अतिरिक्त उसका अभिन्न मित्र अमित भी साथ हो लिया।
प्रकृति का शान्त, सुन्दर वातावरण बचपन से मेरी कमजोरी रहा है। पेड़ – पौधे, जंगल, नदी, पहाड़ सदैव ही मुझसे जैसे कोई अनजाना रिश्ता रखते हैं। जी चाहता है कि ऐसे ही कहीं प्रकृति की गोद में बस कर उसमें ही रम जाऊँ।
अरे नहीं, अपने शौक अथवा रूचियाँ बयान करने का कोई इरादा नहीं है मेरा।
ऋषिकेश जाने के लिए हमने सुबह लगभग १०:३० बजे की ट्रेन पकड़ी और हँसते – हँसाते आपस में बतियाते फुल मूड और मनोरंजन के बीच खाते – पीते हम यानि मैं, अर्पण और अमित कब शाम होने से पहले ही योगनगरी ऋषिकेश स्टेशन पहुँच गये, इसका एहसास हमें ट्रेन के पहिये थमने के साथ ही हुआ। ऋषिकेश का नया रेलवे स्टेशन स्वयं में अलग ही आकर्षण समेटे हैं। शाम के लगभग चार बजे स्टेशन पर कदम रखते ही गर्मी की कड़क चमकीली धूप के बावजूद जब हवा के झोकों ने शरीर को छुआ और अपने चारों ओर हरियाली व सामने खड़े पहाड़ों पर दृष्टि गयी तो मन में एक अनजानी खुशी एवं रोमांच का अनुभव हुआ। होंठ मुस्कुराने लगे और इस मुस्कुराहट ने चेहरे की चमक बढ़ाते हुए मानो यात्रा की सारी थकन मिटा दी। अर्पण और अमित इतने उत्साहित हुए कि अपने – अपने मोबाइल में फोटो क्लिक करने में मगन यह भी भूल गये कि हमें अपने गंतव्य स्थल “आश्रम” जहाँ हमने पहले ही ठहरने हेतु रूम की बुकिंग करा रखी थी, पहुँचना है। मेरे निर्देश पर फोटो खींचना रोककर वह आश्रम की ओर चल पड़े। आश्रम स्टेशन से काफी दूर था, किन्तु उनका विचार था कि वातावरण का आनंद लेते हुए पैदल ही आश्रम तक चला जाये, जिससे शहर तो देखने को मिलेगा, अतः ऑटोरिक्शा लेने का इरादा छोड़ दिया। घूमते हुए रास्ते में प्रकृति के सौन्दर्य का अनुभव करते हुए हमने दो बार ब्रेक लिया। पहली बार रूककर गन्ने का जूस पिया और दूसरी बार सड़क किनारे एक छोटे से ढाबे पर भोजन किया।
लगभग पाँच बजे हम आश्रम पहुँच गये।

रचनाकार :- कंचन खन्ना, मुरादाबाद,
(उ०प्र०, भारत) ।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार) ।
(प्रथम भाग समाप्त)
(क्रमशः)
दिनांक :-१४/०६/२०२२.

235 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
अनपढ़ सी
अनपढ़ सी
SHAMA PARVEEN
मुक्तक
मुक्तक
Yogmaya Sharma
*मैं भी कवि*
*मैं भी कवि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
कवि रमेशराज
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
नाथ सोनांचली
"लू"
Dr. Kishan tandon kranti
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंबेडकर जयंती
अंबेडकर जयंती
Shekhar Chandra Mitra
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वर्षा ऋतु के बाद
वर्षा ऋतु के बाद
लक्ष्मी सिंह
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
Kumar lalit
इश्क में आजाद कर दिया
इश्क में आजाद कर दिया
Dr. Mulla Adam Ali
कहना क्या
कहना क्या
Awadhesh Singh
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
Rj Anand Prajapati
एक ही दिन में पढ़ लोगे
एक ही दिन में पढ़ लोगे
हिमांशु Kulshrestha
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
हिसाब
हिसाब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
दौरे-हजीर चंद पर कलमात🌹🌹🌹🌹🌹🌹
दौरे-हजीर चंद पर कलमात🌹🌹🌹🌹🌹🌹
shabina. Naaz
बेरोजगारी की महामारी
बेरोजगारी की महामारी
Anamika Tiwari 'annpurna '
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
Ravi Prakash
कुछ कहमुकरियाँ....
कुछ कहमुकरियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...