Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 2 min read

सुनो पहाड़ की….!!! (भाग – ८)

परमार्थ निकेतन से गंगा घाट की ओर आते हुए हम बाजार होते हुए घाट पर पहुँच गये। अब तक गंगा आरती का समय हो गया था। हम भी आरती में सम्मिलित हो गये। दीप जलाकर माँ गंगा में प्रवाहित किया। संध्या के समय आरती में असंख्य व्यक्ति दीपक जलाकर गंगाजी में प्रवाहित कर रहे थे। पत्तल के मध्य फूलों में स्थित जगमगाते ये दीप जल में तैरते हुए एक आलौकिक आभा प्रस्तुत कर रहे थे। संध्या के समय होती आरती, घाट पर बजते आध्यात्मिक भजनों के मधुर स्वर, धीरे-धीरे बढ़ता अंधकार और जल में तैरते हुए जगमग दीपक समस्त वातावरण को अद्भुत, आलौकिक छटा प्रदान कर रहे थे। मन इस वातावरण में मानो रम ही गया था। इस अवसर पर एक बार पुनः मोबाइल के कैमरे ने इन मधुर स्मृतियों को सँजोने का कार्य किया। फिर समय को देखते हुए हमें आश्रम की ओर वापसी का निर्णय लेना पड़ा। हालांकि लौटने की इच्छा बिल्कुल नहीं थी।
वापसी के लिए एक बार फिर हमने जानकी सेतु ‌वाला मार्ग चुना क्योंकि रामसेतु से आश्रम की दूरी अधिक थी। जानकी सेतु पार कर बाजार होते हुए हम रात्रि के भोजन के समय तक वापस आश्रम लौट आए। लौटकर खाना खाने के पश्चात कुछ देर आपस में बातचीत करने के बाद हम सोने के लिए बिस्तर पर लेट गये। अर्पण व अमित एक बार फिर अपने-अपने मोबाइल में शाम की तस्वीरें देखते हुए उन के विषय में चर्चा करने लगे । वह मुझे भी इसमें शामिल कर लेते किन्तु मैंने ज्यादा रूचि न लेकर आँखें बंद कर लीं क्योंकि थकान महसूस कर रही थी। आँखें बंद होने पर भी मेरा ध्यान उन दोनों की ओर बार-बार आकर्षित हो रहा था। अतः मैंने उन्हें बात करने से मना किया और आराम से सोने की कोशिश में लग गयी। नींद एकदम से आने को तैयार न थी। मन शाम की घटनाओं में उलझा सा था। जंगल, पहाड़, गंगा के घाट व आरती की मधुर स्मृतियाँ सहित बाजार की भीड़भाड़ सब एक साथ मस्तिष्क को घेरे हुए थे।
इन सबके बीच अचानक बीती रात की पहाड़ से बातचीत वाली घटना मस्तिष्क में चली आयी और मैं सोच में पड़ गयी।
यकायक महसूस होने लगा कि पहाड़ पुनः मेरे समक्ष आकर अपनी बात दोहरा रहा है। मुझसे कह रहा है कि देखा, तुमने मेरा हाल? मैं क्या था? क्या हो गया हूँ? इन प्रश्नों ने एक बार फिर मुझे उलझा दिया, मैं सोच में पड़ गयी थी। क्या सचमुच पहाड़ मुझसे बात करता है या यह मात्र मेरी कल्पना है। यदि यह कल्पना ही है तो‌ ऐसा मेरे साथ ही क्यों, इसका उद्देश्य क्या हो सकता है?

(क्रमशः)
(अष्टम् भाग समाप्त)

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- ०३/०८/२०२२

90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
"असफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
Raju Gajbhiye
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
Neelam Sharma
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रोज हमको सताना गलत बात है
रोज हमको सताना गलत बात है
कृष्णकांत गुर्जर
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
Neelam Chaudhary
जब तू रूठ जाता है
जब तू रूठ जाता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ आज का आख़िरी शेर-
■ आज का आख़िरी शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
সিগারেট নেশা ছিল না
সিগারেট নেশা ছিল না
Sakhawat Jisan
चंद्रशेखर आज़ाद जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि
चंद्रशेखर आज़ाद जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि
Dr Archana Gupta
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
Shashi kala vyas
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
2617.पूर्णिका
2617.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
तुम जो आसमान से
तुम जो आसमान से
SHAMA PARVEEN
चींटी रानी
चींटी रानी
Manu Vashistha
Time Travel: Myth or Reality?
Time Travel: Myth or Reality?
Shyam Sundar Subramanian
सब कुछ पा लेने की इच्छा ही तृष्णा है और कृपापात्र प्राणी ईश्
सब कुछ पा लेने की इच्छा ही तृष्णा है और कृपापात्र प्राणी ईश्
Sanjay ' शून्य'
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
शेखर सिंह
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
सोशल मीडिया पर एक दिन (हास्य-व्यंग्य)
सोशल मीडिया पर एक दिन (हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
_सुलेखा.
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
पिता की नियति
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
आपातकाल
आपातकाल
Shekhar Chandra Mitra
रावण
रावण
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सलाह .... लघुकथा
सलाह .... लघुकथा
sushil sarna
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Shriyansh Gupta
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...