Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

सुनो तुम

सुनों तुम….!

जब
सब बिखरने लगे
………..उससे पहले
तुम !
……आ जाना
बिखराव ने हद लांघ ली
तो……..।
तुम भी बिखर जाओगे।
जब सब अपने …….।
अलविदा कहें
तुम्हारे अस्तित्व को।
तो
स्वयं को रोक लेना
मुड़कर देख लेना।
मैं वहीं मिलूंगी
जहां से तुम चले थे।
नई राह
नई उम्मीद
तलाश दूंगी।
संगीता बैनीवाल

1 Like · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
सताया ना कर ये जिंदगी
सताया ना कर ये जिंदगी
Rituraj shivem verma
नये अमीर हो तुम
नये अमीर हो तुम
Shivkumar Bilagrami
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
रंगों का त्योहार है होली।
रंगों का त्योहार है होली।
Satish Srijan
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
पूर्वार्थ
नहीं हूं...
नहीं हूं...
Srishty Bansal
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
अंसार एटवी
3016.*पूर्णिका*
3016.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मनुष्य को
मनुष्य को
ओंकार मिश्र
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
आइये - ज़रा कल की बात करें
आइये - ज़रा कल की बात करें
Atul "Krishn"
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बदल गयो सांवरिया
बदल गयो सांवरिया
Khaimsingh Saini
"कुण्डलिया"
surenderpal vaidya
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
VINOD CHAUHAN
बाज़ार से कोई भी चीज़
बाज़ार से कोई भी चीज़
*प्रणय प्रभात*
चंदा मामा ! अब तुम हमारे हुए ..
चंदा मामा ! अब तुम हमारे हुए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
*गर्मी में शादी (बाल कविता)*
*गर्मी में शादी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
Jyoti Khari
"दुआ"
Dr. Kishan tandon kranti
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
सच तो बस
सच तो बस
Neeraj Agarwal
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
Shyam Sundar Subramanian
उत्तम देह
उत्तम देह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ तो बाक़ी
कुछ तो बाक़ी
Dr fauzia Naseem shad
इंसान का कोई दोष नही जो भी दोष है उसकी सोच का है वो अपने मन
इंसान का कोई दोष नही जो भी दोष है उसकी सोच का है वो अपने मन
Rj Anand Prajapati
Loading...