Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

सुखम् दुखम

डा. अरुण कुमार शास्त्री / एक अबोध बालक / अरुण अतृप्त
शीर्षक – सुखम् दुखम
घृणा तुम्हारी कुछ काम न आएगी
जिन्दगी को तो वो छु ही न पाएगी
खून का घूंट पी पी के जो जी रहे हो
यही सोच अब जी का जन्जाल बन जाएगी //
दर्द में ही रहते हो दर्द का ही बिस्तर है
एक दिन इसी दर्द मे कब्र भी बन जाएगी
सबक सीखो अपने दोस्तों से
क्षमा, प्रेम, सहानुभूति, अपनत्व का //
आखिर को यही सब तुमहरी प्रेरणा बन जाएगी
सलाह है , मानो न मानो सखी
सलाह है , मानो न मानो सखी
बिन इन सब के तो तु एय मेरी सखी
कभी मुस्कुरा भी न पाएगी //
नेमतें हैं ये खुदा की, ये उनका करम है
जिसने मानी समझी दिल से,
उसी के साथ उस मालिक का सुयश धरम है //
चलो आज तुझको एक नई दुनिया दिखा के लाता हुँ
घृणा का चश्मा उतार देगा जो वो ज़न्नत दिखा के लाता हुँ //
साहित्य का समुद्र बेह्ता है सामाजिक समूहों में
नाम न पूंछ ना , कुछ भी हो नाम में क्या रखा है //
कभी जुड़ों इन से तो लिख के रख लेना
तु सीधा सीधा जिन्दगि से जुड जाएगी //
घृणा तुम्हारी कुछ काम न आएगी
जिन्दगी को तो वो छु ही न पाएगी
खून का घूंट पी पी के जो जी रहे हो
यही सोच अब जी का जन्जाल बन जाएगी //

176 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
उदयमान सूरज साक्षी है ,
उदयमान सूरज साक्षी है ,
Vivek Mishra
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
पूर्वार्थ
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
Aman Kumar Holy
यही समय है!
यही समय है!
Saransh Singh 'Priyam'
2788. *पूर्णिका*
2788. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सासूमां का मिजाज
सासूमां का मिजाज
Seema gupta,Alwar
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"जानो और मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
कृपा करें त्रिपुरारी
कृपा करें त्रिपुरारी
Satish Srijan
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
Neelam Sharma
"बरसाने की होली"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बोर्ड परीक्षा में सुधार के उपाय
बोर्ड परीक्षा में सुधार के उपाय
Ravi Prakash
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
💐प्रेम कौतुक-300💐
💐प्रेम कौतुक-300💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
Anand Kumar
स्त्री मन
स्त्री मन
Surinder blackpen
इश्क़
इश्क़
हिमांशु Kulshrestha
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गुजरे वक्त के सबक से
गुजरे वक्त के सबक से
Dimpal Khari
जिंदगी
जिंदगी
sushil sarna
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लम्हे
लम्हे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
तुम से सुबह, तुम से शाम,
तुम से सुबह, तुम से शाम,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
फागुन
फागुन
Punam Pande
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
Loading...