Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2023 · 1 min read

“सुकून”

“सुकून”
मत समझ
सुकून को इतना सस्ता
हर किसी के नसीब में
सुकून होता नहीं।
अगर यकीन ना हो तो
खरीद कर देखो जरा।

15 Likes · 5 Comments · 199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
अवसाद
अवसाद
Dr Parveen Thakur
I.N.D.I.A
I.N.D.I.A
Sanjay ' शून्य'
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अनुभव एक ताबीज है
अनुभव एक ताबीज है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*** चोर ***
*** चोर ***
Chunnu Lal Gupta
मैं कुछ इस तरह
मैं कुछ इस तरह
Dr Manju Saini
मिष्ठी का प्यारा आम
मिष्ठी का प्यारा आम
Manu Vashistha
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
Shweta Soni
पतंग
पतंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
चलो दोनों के पास अपना अपना मसला है,
चलो दोनों के पास अपना अपना मसला है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"खाली हाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो री
वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो री
Rj Anand Prajapati
मैं नहीं कहती
मैं नहीं कहती
Dr.Pratibha Prakash
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
हंसें और हंसाएँ
हंसें और हंसाएँ
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
3123.*पूर्णिका*
3123.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हिंदी
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
पद्धरि छंद ,अरिल्ल छंद , अड़िल्ल छंद विधान व उदाहरण
पद्धरि छंद ,अरिल्ल छंद , अड़िल्ल छंद विधान व उदाहरण
Subhash Singhai
मन और मस्तिष्क
मन और मस्तिष्क
Dhriti Mishra
सोनेवानी के घनघोर जंगल
सोनेवानी के घनघोर जंगल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
एक सलाह, नेक सलाह
एक सलाह, नेक सलाह
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
जीवन यात्रा
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
हमारा देश
हमारा देश
SHAMA PARVEEN
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
singh kunwar sarvendra vikram
Loading...