Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 2 min read

सिया राम विरह वेदना

ऋतु बसंत नभ मेघ गरजते, वसुधा पर रचि हरि माया
तरु आसीन ओट धरि जननी, उद्विग्न हृदय रघुराया
मेघ दृश्य चक्षु प्रस्त्रवण सम, करे घोर धर वर्षा
कृपानिधि, सिंधु सुता, देखी दोनों की विरह दशा
विवर विभूति द्वार पर, प्रहरी शेषनाग अवतार
अवलम्ब शैल, स्फुटिक शिला पर, बैठे पालन हार

छोटी छोटी सरिता बढ़ चली, बड़ी भरे उफान
मद मस्त गजानन तुरि तट, नहि परिधि का भान
धूमिल हो गए जल जयमाला, योग्य कहा जल पान
कछु माया उच्छल कनिष्ठ नद, क्षणिक समय समान
उच्च कोटि नीरव रस बरसे, तृण रंग धरा संसार
अवलम्ब शैल, स्फुटिक शिला पर, बैठे पालन हार

जरत बदन सम रवि के तुला, गहन शोक मनि चुभि शूला
धरा परत गिरी छवि अनूपा, नभ सारंग छिपी भानु भूपा
अन्न जल ग्रहण त्यागी बैदेही, हृदय जड़ित पति अवध स्नेही
डूबे उतरे जलनिधि जेही, लिपटे जीव जल ढाबर तेही
भव सागर मम उद्धार करि, उर बसे राम आधार
अवलम्ब शैल, स्फुटिक शिला पर, बैठे पालन हार

दादुर पपीहा किकर निसि दिन, छोड़े करकस बान
सारंग शीतल बूंदें जारे, तन फफूद उग तृण समान
कछुक दिवस धीरज धरि, लखन राम रणधीर
कहि कोकिल सीतहि पहि, आयेंगे रघुवीर
शत योजन सिंधु करि पारा, देब संदेश तोहार
अवलम्ब शैल, स्फुटिक शिला पर, बैठे पालन हार

आवत बीत गए चहू मासा, कोकिल आई सरोरूर पासा
तन पाषाण मन अति कासा, पनपे हृदय घोर निराशा
मधुर ध्वनि करुणा निधान सम, करुण संदेश सुनाया
विरह वेदना आधार तुम्ही बस, रटत नाम रघुराया
सकल कनक शोभित भई, करि राम नाम श्रृंगार
अवलम्ब शैल, स्फुटिक शिला पर, बैठे पालन हार

जातुधान सम कक्ष होई, देती कोटि के वाद
जनक नंदनी रघु बीन, अर्चि बीन धूमिल चांद
सुमन सुगंध पवन निधि, देहू सियहि संदेश
शत योजन दक्षिण दिसि, जहां बसे लंकेश
शीघ्र संदेशों पठाईयों, रमा प्रिया भुज चार
अवलम्ब शैल, स्फुटिक शिला पर, बैठे पालन हार
इंजी.नवनीत पाण्डेय सेवटा (चंकी)

Language: Hindi
1 Like · 489 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Er.Navaneet R Shandily
View all
You may also like:
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दबे पाँव
दबे पाँव
Davina Amar Thakral
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
- रिश्तों को में तोड़ चला -
- रिश्तों को में तोड़ चला -
bharat gehlot
चला रहें शिव साइकिल
चला रहें शिव साइकिल
लक्ष्मी सिंह
23/99.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/99.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
Ranjeet kumar patre
बेपरवाह
बेपरवाह
Omee Bhargava
योग्यता व लक्ष्य रखने वालों के लिए अवसरों व आजीविका की कोई क
योग्यता व लक्ष्य रखने वालों के लिए अवसरों व आजीविका की कोई क
*प्रणय प्रभात*
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यही विश्वास रिश्तो की चिंगम है
यही विश्वास रिश्तो की चिंगम है
भरत कुमार सोलंकी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
Neeraj Agarwal
जीवन यात्रा
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
“HUMILITY FORGIVES SEVEN MISTAKES “
“HUMILITY FORGIVES SEVEN MISTAKES “
DrLakshman Jha Parimal
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
शेखर सिंह
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
gurudeenverma198
अभी भी जारी है जंग ज़िंदगी से दोस्तों,
अभी भी जारी है जंग ज़िंदगी से दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
Acharya Rama Nand Mandal
अधूरी तमन्ना (कविता)
अधूरी तमन्ना (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
मौसम  सुंदर   पावन  है, इस सावन का अब क्या कहना।
मौसम सुंदर पावन है, इस सावन का अब क्या कहना।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
***होली के व्यंजन***
***होली के व्यंजन***
Kavita Chouhan
तुमसे मिलने पर खुशियां मिलीं थीं,
तुमसे मिलने पर खुशियां मिलीं थीं,
अर्चना मुकेश मेहता
संतानों का दोष नहीं है
संतानों का दोष नहीं है
Suryakant Dwivedi
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
"इसलिए जंग जरूरी है"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता
कविता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...