Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

सिंदूरी भावों के दीप

ओ प्रिय!
तुम्हारी दहलीज़
मेरे महावर भरे पाँवों से
सिंदूरी भावों से
रंग गई है,
बिखर गये हैं
शुभकामनाओं के
असीम अक्षत,
जल गए हैं
प्रेम के
अलौकिक दीप,
अब हुए हैं साथ
जन्मो के मीत!
जीने लगी हूँ मैं
अपनी चुलबुली
आहटभरी
बेशुमार हरकतों के साथ
पाने लगी हूँ
अपने हर कौतूहल
का जवाब
माथे पर लिया है सहेज
तुम्हारा स्नेही तेज
एक आमंत्रित अभिव्यक्ति
मुझको गई जीत!
मेरे जन्मो के मीत!
नवाजती हूँ दुआओं से
तुम्हारे हर निवाले को
रंग-बिरंगी आँचल सँवार
पूजती हूँ मन के शिवाले को
झंकृत हो गया
सपनों की पायल से
अपना आँगन
निखर आई विश्वास
भरी तुलसी
झिलमिलाने लगी
रिश्तों की दीवारों पर
त्योहारों-सी प्रीत,
अब हुए हैं साथ
जन्मों के मीत!

रश्मि लहर

Language: Hindi
1 Like · 119 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
262p.पूर्णिका
262p.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लघुकथा - एक रुपया
लघुकथा - एक रुपया
अशोक कुमार ढोरिया
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
Rj Anand Prajapati
"" *गणतंत्र दिवस* "" ( *26 जनवरी* )
सुनीलानंद महंत
#शेर_का_मानी...
#शेर_का_मानी...
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
अपनी कलम से.....!
अपनी कलम से.....!
singh kunwar sarvendra vikram
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
Ujjwal kumar
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कितना तन्हा
कितना तन्हा
Dr fauzia Naseem shad
अखंड भारत
अखंड भारत
विजय कुमार अग्रवाल
मुक्तक
मुक्तक
कृष्णकांत गुर्जर
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
जीत मुश्किल नहीं
जीत मुश्किल नहीं
Surinder blackpen
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ,  तो इस कविता के भावार
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ, तो इस कविता के भावार
Sukoon
वह दिन जरूर आयेगा
वह दिन जरूर आयेगा
Pratibha Pandey
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
पंकज कुमार कर्ण
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
*How to handle Life*
*How to handle Life*
Poonam Matia
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
नेताम आर सी
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
Dr Manju Saini
एक बेटी हूं मैं
एक बेटी हूं मैं
अनिल "आदर्श"
आज की नारी
आज की नारी
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
এটা আনন্দ
এটা আনন্দ
Otteri Selvakumar
प्रिंसिपल सर
प्रिंसिपल सर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वीकेंड
वीकेंड
Mukesh Kumar Sonkar
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
Brijpal Singh
Loading...