Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

सावन

भीगे मन को भीगा सावन, सूखा-सूखा लगता है ।
मूक अधर, सूनी नजरों से, चौपाल भला कब सजता है ।
आँखों की कोरें भीगी हों
तो क्या करना सावन का,
मन में यदि न उम्मीदें हों
तो क्या करना सावन का,
रहें अधूरे स्वप्न यदि
तो क्या करना सावन का,
आशा के दीपक जले नहीं
तो क्या करना सावन का,
सावन तो मन के अंतस अन्दर, बैठा हो तो फबता है।
मूक अधर, सूनी नजरों से, चौपाल भला कब सजता है ।
जिन घर चूल्हे जले नहीं
वो क्या झूला झूलेंगे,
जो पैर थके फिर चले नहीं
वो क्या झूला झूलेंगे,
जब कमर तोड़ती महंगाई
बोलो क्या झूला झूलेंगे,
भविष्य दिखे अंधियारे में
तो वो क्या झूला झूलेंगे,
रहे व्यवस्थित सब कुछ तब ही, झूला अच्छा लगता है।
मूक अधर, सूनी नजरों से, चौपाल भला कब सजता है ।
मनमीत नहीं हो पास अगर
तो फाग भला क्या गायेंगे,
सावन में बारिश की बूँदें
विरह अगन भड़काएंगे,
सीमा पर जेठ दुपहरी हो
तो हम कैसे सावन पाएंगे,
हर तरफ रुदन हो झमेला हो
तो फाग भला क्या गायेंगे,
हर जगह हर्ष का नाद बजे, फाग तभी तो गवता है।
मूक अधर, सूनी नजरों से, चौपाल भला कब सजता है ।

(c)@ दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

5 Likes · 278 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
संतान को संस्कार देना,
संतान को संस्कार देना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
Dhriti Mishra
अल्फ़ाजी
अल्फ़ाजी
Mahender Singh
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
"सफाई की चाहत"
*प्रणय प्रभात*
"सावधान"
Dr. Kishan tandon kranti
आज सभी अपने लगें,
आज सभी अपने लगें,
sushil sarna
अपने अपने कटघरे हैं
अपने अपने कटघरे हैं
Shivkumar Bilagrami
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
Chunnu Lal Gupta
**मन में चली  हैँ शीत हवाएँ**
**मन में चली हैँ शीत हवाएँ**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हे अयोध्या नाथ
हे अयोध्या नाथ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम
हम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन और रोटी (नील पदम् के दोहे)
जीवन और रोटी (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
द्रौपदी
द्रौपदी
SHAILESH MOHAN
ज़िंदगी...
ज़िंदगी...
Srishty Bansal
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
हिन्दी दोहा - दया
हिन्दी दोहा - दया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ऐ माँ! मेरी मालिक हो तुम।
ऐ माँ! मेरी मालिक हो तुम।
Harminder Kaur
संस्कार में झुक जाऊं
संस्कार में झुक जाऊं
Ranjeet kumar patre
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
कवि रमेशराज
देख तुझको यूँ निगाहों का चुराना मेरा - मीनाक्षी मासूम
देख तुझको यूँ निगाहों का चुराना मेरा - मीनाक्षी मासूम
Meenakshi Masoom
"सपनों का सफर"
Pushpraj Anant
ईश्वर है
ईश्वर है
साहिल
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
दिया है नसीब
दिया है नसीब
Santosh Shrivastava
नारी के हर रूप को
नारी के हर रूप को
Dr fauzia Naseem shad
Loading...