Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

सावनी श्यामल घटाएं

** नवगीत **
*********************
छा रही हैं
*
नील नभ पर छा रही हैं,
सावनी श्यामल घटाएँ।

गर्मियां तपती दोपहरी,
में सभी व्याकुल हुए हैं।
खिन्न मन बोझल कदम ले,
अनमने आगे बढ़े हैं।
सोचते हैं आ गई अब,
राहतें बनकर हवाएँ।
नील नभ पर…..

सूखती जलधार फिर से,
छलछलाती बह चलेगी।
पेड़ की प्यासी टहनियाँ,
तृप्त होकर खिल उठेगी।
देखना फिर किस तरह से,
हरित होंगी भावनाएँ।
नील नभ पर….

है बहुत ही भीगने में,
देखिए आनंद कितना।
और भीगा जा रहा हो,
जिन्दगी का स्वप्न अपना।
आज सिमटी जा रही सी,
लग रही फैली दिशाएँ।
नील नभ पर….
*********************
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
क्या मिला है मुझको, अहम जो मैंने किया
क्या मिला है मुझको, अहम जो मैंने किया
gurudeenverma198
■ welldone
■ welldone "Sheopur"
*Author प्रणय प्रभात*
जन्म-जन्म का साथ.....
जन्म-जन्म का साथ.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*सुख-दुख के दोहे*
*सुख-दुख के दोहे*
Ravi Prakash
तुम ने हम को जितने  भी  गम दिये।
तुम ने हम को जितने भी गम दिये।
Surinder blackpen
2890.*पूर्णिका*
2890.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू भी धक्के खा, हे मुसाफिर ! ,
तू भी धक्के खा, हे मुसाफिर ! ,
Buddha Prakash
नशा
नशा
Mamta Rani
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
shabina. Naaz
इसरो का आदित्य
इसरो का आदित्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कर्मगति
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
भला कैसे सुनाऊं परेशानी मेरी
भला कैसे सुनाऊं परेशानी मेरी
Keshav kishor Kumar
मीठे बोल या मीठा जहर
मीठे बोल या मीठा जहर
विजय कुमार अग्रवाल
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
कहते हैं लोग
कहते हैं लोग
हिमांशु Kulshrestha
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
सत्य कुमार प्रेमी
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Wo veer purta jo rote nhi
Wo veer purta jo rote nhi
Sakshi Tripathi
समझा दिया है वक़्त ने
समझा दिया है वक़्त ने
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
सेल्फी या सेल्फिश
सेल्फी या सेल्फिश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
आर.एस. 'प्रीतम'
लिखते दिल के दर्द को
लिखते दिल के दर्द को
पूर्वार्थ
खो गया सपने में कोई,
खो गया सपने में कोई,
Mohan Pandey
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
DrLakshman Jha Parimal
Loading...