Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Dec 2022 · 1 min read

साल जो बदला है

क्या तुम भी बदले हो
क्या मैं भी बदला हूं
साल जो बदला है
क्या हाल भी बदला है
क्या तेरी मेरी मानसिकता का
क्या स्तर भी बदला है
भूख, गरीबी बदहाली का
क्या मंज़र भी बदला है
गंदी नदियां, गंदे नाले
क्या सड़कों का
हाल भी बदला है
मारे-मारे सड़कों पे फ़िरते
नंगे भूखे, लाचार, अभागे
क्या कुछ इनमें बदला है
आपसी घृणा, नफ़रत का
क्या माहौल भी बदला है.

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
13 Likes · 399 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
प्रकृति एवं मानव
प्रकृति एवं मानव
नन्दलाल सुथार "राही"
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
स्त्री रहने दो
स्त्री रहने दो
Arti Bhadauria
गुहार
गुहार
Sonam Puneet Dubey
👍👍
👍👍
*प्रणय प्रभात*
*ढूंढ लूँगा सखी*
*ढूंढ लूँगा सखी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*आम आदमी क्या कर लेगा, जब चाहे दुत्कारो (मुक्तक)*
*आम आदमी क्या कर लेगा, जब चाहे दुत्कारो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जय संविधान...✊🇮🇳
जय संविधान...✊🇮🇳
Srishty Bansal
भूख
भूख
RAKESH RAKESH
खानदानी चाहत में राहत🌷
खानदानी चाहत में राहत🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
Dr MusafiR BaithA
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
DrLakshman Jha Parimal
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
दिल
दिल
Neeraj Agarwal
कैदी
कैदी
Tarkeshwari 'sudhi'
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
दिनांक:- २४/५/२०२३
दिनांक:- २४/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बड़े भाग मानुष तन पावा
बड़े भाग मानुष तन पावा
आकांक्षा राय
काश वो होते मेरे अंगना में
काश वो होते मेरे अंगना में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
Shweta Soni
World Environment Day
World Environment Day
Tushar Jagawat
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
-- मैं --
-- मैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
"सहर देना"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...