Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2017 · 1 min read

सहजता बोलेगी कि, सज्जन सु चेतन कूक हैं

प्रेम उनके निकट पर वह तो तनी बंदूक हैं |
इसलिए ही आज तक बजता हुआ संदूक हैं |
नेक जन बनकर, स्वयं निज को, अहं से मुक्त कर|
सहजता बोलेगी कि ,सज्जन सुचेतन कूक हैं |

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

Language: Hindi
548 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
लफ्जों के सिवा।
लफ्जों के सिवा।
Taj Mohammad
वह स्त्री / MUSAFIR BAITHA
वह स्त्री / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
आसमाँ  इतना भी दूर नहीं -
आसमाँ इतना भी दूर नहीं -
Atul "Krishn"
स्वच्छंद प्रेम
स्वच्छंद प्रेम
Dr Parveen Thakur
1. चाय
1. चाय
Rajeev Dutta
कभी-कभी ऐसा लगता है
कभी-कभी ऐसा लगता है
Suryakant Dwivedi
सज्ज अगर न आज होगा....
सज्ज अगर न आज होगा....
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*प्रणय प्रभात*
।। मतदान करो ।।
।। मतदान करो ।।
Shivkumar barman
मंजिल छूते कदम
मंजिल छूते कदम
Arti Bhadauria
अपने आमाल पे
अपने आमाल पे
Dr fauzia Naseem shad
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं।
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
कातिल
कातिल
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
खोया हुआ वक़्त
खोया हुआ वक़्त
Sidhartha Mishra
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
Anand Kumar
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
बेटी आएगी, तो खुशियां लाएगी।
बेटी आएगी, तो खुशियां लाएगी।
Rajni kapoor
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
DrLakshman Jha Parimal
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2691.*पूर्णिका*
2691.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"क्या लिखूं क्या लिखूं"
Yogendra Chaturwedi
*बुंदेली दोहा-चिनार-पहचान*
*बुंदेली दोहा-चिनार-पहचान*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...