Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा

सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
जमीं इसकी गगन इसका सभी आँखों का है तारा

नहीं हिम्मत किसी की है उठाकर आँख जो देखे
चटा दें धूल पल में हम कोई दुश्मन जो ललकारा

आर.एस. ‘प्रीतम’

1 Like · 58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
मोरे मन-मंदिर....।
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
Dr Shweta sood
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
Suryakant Dwivedi
*मनुज पक्षी से सीखे (कुंडलिया)*
*मनुज पक्षी से सीखे (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
सौरभ पाण्डेय
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
Ravi Ghayal
तुम्हारी आँखें...।
तुम्हारी आँखें...।
Awadhesh Kumar Singh
* वर्षा ऋतु *
* वर्षा ऋतु *
surenderpal vaidya
3176.*पूर्णिका*
3176.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि  ...फेर सेंसर ..
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि ...फेर सेंसर .."पद्
DrLakshman Jha Parimal
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
Anil chobisa
■ दास्तानें-हस्तिनापुर
■ दास्तानें-हस्तिनापुर
*Author प्रणय प्रभात*
*जिंदगी के अनोखे रंग*
*जिंदगी के अनोखे रंग*
Harminder Kaur
इज़हार ज़रूरी है
इज़हार ज़रूरी है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
Vishal babu (vishu)
परेशां सोच से
परेशां सोच से
Dr fauzia Naseem shad
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
कवि दीपक बवेजा
गर्मी आई
गर्मी आई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
You know ,
You know ,
Sakshi Tripathi
ले बुद्धों से ज्ञान
ले बुद्धों से ज्ञान
Shekhar Chandra Mitra
जीवनमंथन
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
"गुमनाम जिन्दगी ”
Pushpraj Anant
"सूरत और सीरत"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...