Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

सरस रंग

जीवन की
नीरसता
का जाल
तोडते रंग
हमारे अंतस से
जुडे रहते रंग
हमारी आंखो को
दिखते सात रंग
लेकिन उससे भी
अधिक होते रंग
हर रंग की
अपनी भूमिका
हर रंग
की
अपनी तरंग
कभी खुश
तो कभी
दुखी भी करते
रंग।

डा. पूनम पांडे

Language: Hindi
2 Likes · 82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
* आओ ध्यान करें *
* आओ ध्यान करें *
surenderpal vaidya
हृदय में वेदना इतनी कि अब हम सह नहीं सकते
हृदय में वेदना इतनी कि अब हम सह नहीं सकते
हरवंश हृदय
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
VEDANTA PATEL
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रदीप माहिर
कद्र माँ-बाप की जिसके आशियाने में नहीं
कद्र माँ-बाप की जिसके आशियाने में नहीं
VINOD CHAUHAN
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
Manisha Manjari
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
बसंत का आगम क्या कहिए...
बसंत का आगम क्या कहिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आलाप
आलाप
Punam Pande
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
Vishal babu (vishu)
खो गईं।
खो गईं।
Roshni Sharma
नये वर्ष का आगम-निर्गम
नये वर्ष का आगम-निर्गम
Ramswaroop Dinkar
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
6
6
Davina Amar Thakral
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
प्रेमदास वसु सुरेखा
कहां खो गए
कहां खो गए
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
'अशांत' शेखर
2396.पूर्णिका
2396.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
सत्य कुमार प्रेमी
*ईख (बाल कविता)*
*ईख (बाल कविता)*
Ravi Prakash
سب کو عید مبارک ہو،
سب کو عید مبارک ہو،
DrLakshman Jha Parimal
"विश्वास का दायरा"
Dr. Kishan tandon kranti
जिससे मिलने के बाद
जिससे मिलने के बाद
शेखर सिंह
जिंदगी
जिंदगी
विजय कुमार अग्रवाल
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है, अभी तो जिंदगी का सार बाकी है।
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है, अभी तो जिंदगी का सार बाकी है।
Vipin Singh
Loading...