Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

सम्बन्ध

परिवार दरख़्त की तरह,
एक जड़ से उग कर
शाख, पल्लव में फैलते जाते
बच्चे, युवा और बुज़ुर्ग,
सौमानस्य से रहते
बसेरा पाते साए में पथिक,
पशु-पक्षी, मधुप गुंजार करते
जब तक पनपती नहीं दुर्भावना,
वैमनस्य, संताप और इर्ष्या,
वृक्ष छतनार राजते,
क्रोध, प्रतिद्वन्दिता की
उठी हुई आंँधी में
डालें गिरतीं
पत्ते अंजान दिशाओं में उड़ जाते
तने से कटी डालें सूख जातीं
सूख जाते हैं पत्ते,
कभी पत्तल में बिंध कर
बीड़े में लिपट कर
बिक जाते हैं,
गिरे पत्ते कभी पनप नहीं पाते हैं
जड़ों से जुड़े तने,
तनों पर आश्रित पल्लव
बचपन, यौवन, बुढ़ापा देखते हैं
जब टूटते हैं,
नए बीजों को बो चुके होते हैं
पुराने पत्ते,
नई पीढ़ी के लिए
जगह छोड़ते हैं
तृप्त, कर्त्तव्य मुक्त हो
महा प्रयाण करते हैं
कितने ही वृक्ष,
छतनार नहीं
एकांगी रहते हैं
बिछड़े हुओं को
याद करते, इनी गिनी
शाखों को बचा पाते हैं
जिन्हें अपने पीछे
हरा भरा छोड़ते हैं …

1 Like · 111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
sushil sarna
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
Rj Anand Prajapati
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
मैं अपने अधरों को मौन करूं
मैं अपने अधरों को मौन करूं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
Swara Kumari arya
कामनाओं का चक्र व्यूह
कामनाओं का चक्र व्यूह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कफन
कफन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Quote Of The Day
Quote Of The Day
Saransh Singh 'Priyam'
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
वादे खिलाफी भी कर,
वादे खिलाफी भी कर,
Mahender Singh
बोलना खटकता है ! दुनिया को खामोश हुआ, जबसे, कोई शिकवा नहीं ।
बोलना खटकता है ! दुनिया को खामोश हुआ, जबसे, कोई शिकवा नहीं ।
पूर्वार्थ
■ चहेतावादी चयनकर्ता।
■ चहेतावादी चयनकर्ता।
*प्रणय प्रभात*
तू
तू
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
DrLakshman Jha Parimal
रामजी कर देना उपकार
रामजी कर देना उपकार
Seema gupta,Alwar
Perceive Exams as a festival
Perceive Exams as a festival
Tushar Jagawat
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डरना नही आगे बढ़ना_
डरना नही आगे बढ़ना_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मोल
मोल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"जीवन चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
ruby kumari
यारों की आवारगी
यारों की आवारगी
The_dk_poetry
तू बदल गईलू
तू बदल गईलू
Shekhar Chandra Mitra
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
"मेरी बेटी है नंदिनी"
Ekta chitrangini
2331.पूर्णिका
2331.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
क्यों ना बेफिक्र होकर सोया जाएं.!!
क्यों ना बेफिक्र होकर सोया जाएं.!!
शेखर सिंह
Loading...