Sep 10, 2016 · 1 min read

समस्या

उन्हें मालूम है –

अपने इंतज़ार की तड़प

और –

मेरा न आना ।

मुझे मालूम हैं –

वजहें –

न पहुँच पाने की ।

न उन्होंने जानना चाहा ।

न मैं उन्हें ,

समझा पाया ।

96 Views
You may also like:
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
माँ दुर्गे!
Anamika Singh
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
प्यार के फूल....
Dr. Alpa H.
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
पिता
Manisha Manjari
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...