Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2016 · 1 min read

समर्पण

मृदु मंद मुस्काँ अधरों की
रक्तवर्णी चेहरे को उष्णता देती
कोरों के झरोखों से झाँक
मौन आत्मसमर्पण कर कहती

दूर तुम इतने हो मुझसे प्रिय
जितना दूर यह गगन जमीं से
पर गगन को तो देख लेती हूँ
क्यों न देते तुम अर्पण प्रिय

बदली बन मैं घनघोर मेघ की
अंग – अंग तेरा भिगों दूँ प्रिय
बिजुली बन बाबले बादल की
समर्पण को आतुर रहूँ मैं प्रिय

मिलन तेरा मेरा इक बहाना है
आगे की पीढ़ी को सीखाना है
गर चूक करो संस्तृति न बढ़ेगी
आत्मसमर्पण की कथा न बढ़ेगी

आओ प्रिय उत्सर्ग तुम अपना दो
लेने देने से ही ये जीवन चलता है
आत्मतर्पण की बेदी पर निखरोगे
मुझमें अपने को हर पल तुम ढूढ़ोगे

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
Tag: कविता
72 Likes · 326 Views
You may also like:
हर दिल तिरंगा लाते हैं, हर घर तिरंगा लाते हैं
Seema 'Tu hai na'
जयति जयति जय , जय जगदम्बे
Shivkumar Bilagrami
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Writing Challenge- त्याग (Sacrifice)
Sahityapedia
क्यों बात करते हो.......
J_Kay Chhonkar
"मेरी दुआ"
Dr Meenu Poonia
थोड़ा हैं तो थोड़े की ज़रुरत हैं
Surabhi bharati
करूँगा तुमको मैं प्यार तब
gurudeenverma198
झुग्गी वाले
Shekhar Chandra Mitra
मुनासिब है दरमियां
Dr fauzia Naseem shad
हम कलियुग के प्राणी हैं/Ham kaliyug ke prani Hain
Shivraj Anand
चांद और चांद की पत्नी
Shiva Awasthi
हम लिखते क्यों हैं
पूनम झा 'प्रथमा'
🌺🍀परिश्रम: प्रकृत्या सम्बन्धेन भवति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इन जुल्फों के साये में रहने दो
VINOD KUMAR CHAUHAN
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
मुकुट उतरेगा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
तितली
Manshwi Prasad
दया करो भगवान
Buddha Prakash
~~~ स्कूल मेरी शान है ~~~
Rajesh Kumar Arjun
मिलखा सिंह दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ द्वारा ध्यान का आयोजन*
Ravi Prakash
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
एक प्यारी सी परी हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वक्त ए नमाज़ है।
Taj Mohammad
वक़्त और हमारा वर्तमान
मनोज कर्ण
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
'अशांत' शेखर
मंदिर
जगदीश लववंशी
अजीब कशमकश
Anjana Jain
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...