Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2016 · 1 min read

समर्पण

मृदु मंद मुस्काँ अधरों की
रक्तवर्णी चेहरे को उष्णता देती
कोरों के झरोखों से झाँक
मौन आत्मसमर्पण कर कहती

दूर तुम इतने हो मुझसे प्रिय
जितना दूर यह गगन जमीं से
पर गगन को तो देख लेती हूँ
क्यों न देते तुम अर्पण प्रिय

बदली बन मैं घनघोर मेघ की
अंग – अंग तेरा भिगों दूँ प्रिय
बिजुली बन बाबले बादल की
समर्पण को आतुर रहूँ मैं प्रिय

मिलन तेरा मेरा इक बहाना है
आगे की पीढ़ी को सीखाना है
गर चूक करो संस्तृति न बढ़ेगी
आत्मसमर्पण की कथा न बढ़ेगी

आओ प्रिय उत्सर्ग तुम अपना दो
लेने देने से ही ये जीवन चलता है
आत्मतर्पण की बेदी पर निखरोगे
मुझमें अपने को हर पल तुम ढूढ़ोगे

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
72 Likes · 443 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-129💐
💐अज्ञात के प्रति-129💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🍃🌾🌾
🍃🌾🌾
Manoj Kushwaha PS
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
जब ये ख्वाहिशें बढ़ गई।
जब ये ख्वाहिशें बढ़ गई।
Taj Mohammad
अन्त हुआ सब आ गए, झूठे जग के मीत ।
अन्त हुआ सब आ गए, झूठे जग के मीत ।
sushil sarna
आता सबको याद है, अपना सुखद अतीत।
आता सबको याद है, अपना सुखद अतीत।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रूकतापुर...
रूकतापुर...
Shashi Dhar Kumar
अनमोल
अनमोल
Neeraj Agarwal
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
वो शख्स लौटता नहीं
वो शख्स लौटता नहीं
Surinder blackpen
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
"डूबना"
Dr. Kishan tandon kranti
बचपन
बचपन
Anil "Aadarsh"
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
2338.पूर्णिका
2338.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गहन शोध से पता चला है कि
गहन शोध से पता चला है कि
*Author प्रणय प्रभात*
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
ruby kumari
Armano me sajaya rakha jisse,
Armano me sajaya rakha jisse,
Sakshi Tripathi
🙏श्याम 🙏
🙏श्याम 🙏
Vandna thakur
खुद से मुहब्बत
खुद से मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सब तेरा है
सब तेरा है
Swami Ganganiya
कबीर के राम
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
नेताम आर सी
मैं क्यों याद करूँ उनको
मैं क्यों याद करूँ उनको
gurudeenverma198
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी : लक्ष्मी नारायण अग्रवाल बाबा*
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी : लक्ष्मी नारायण अग्रवाल बाबा*
Ravi Prakash
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
Anis Shah
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिन्हें नशा था
जिन्हें नशा था
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सितारा
सितारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
Loading...