Oct 3, 2016 · 1 min read

समर्पण

मृदु मंद मुस्काँ अधरों की
रक्तवर्णी चेहरे को उष्णता देती
कोरों के झरोखों से झाँक
मौन आत्मसमर्पण कर कहती

दूर तुम इतने हो मुझसे प्रिय
जितना दूर यह गगन जमीं से
पर गगन को तो देख लेती हूँ
क्यों न देते तुम अर्पण प्रिय

बदली बन मैं घनघोर मेघ की
अंग – अंग तेरा भिगों दूँ प्रिय
बिजुली बन बाबले बादल की
समर्पण को आतुर रहूँ मैं प्रिय

मिलन तेरा मेरा इक बहाना है
आगे की पीढ़ी को सीखाना है
गर चूक करो संस्तृति न बढ़ेगी
आत्मसमर्पण की कथा न बढ़ेगी

आओ प्रिय उत्सर्ग तुम अपना दो
लेने देने से ही ये जीवन चलता है
आत्मतर्पण की बेदी पर निखरोगे
मुझमें अपने को हर पल तुम ढूढ़ोगे

डॉ मधु त्रिवेदी

72 Likes · 179 Views
You may also like:
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam मन
धूप कड़ी कर दी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
सिपाही
Buddha Prakash
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
पापा
Kanchan Khanna
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
"Happy National Brother's Day"
Lohit Tamta
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
वेवफा प्यार
Anamika Singh
शायरी ने बर्बाद कर दिया |
Dheerendra Panchal
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
Loading...