Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2016 · 1 min read

समर्पण:::: जो कलमकार पीते रहे हैं गरल ( ग़ज़ल) पोस्ट १८

समर्पण ::: ग़ज़ल

जो कलमकार पीते रहे हैं गरल
है समर्पित उन्हीं को सुमन ये कमल

राह तकते रहे आज तक जो चरण
उनके छालों का रिसना हुआ है सफल

आइना टूट कर अक्स बिखरा तो है
साधना पर मेरी कुछ तो होगा अमल

वेदना की दुल्हन बन गयी रागिनी
शूल की दोस्ती बन गयी है ग़ज़ल

एकता के लिए अग्रसर हो गये
खुशबुओं को लिए खिल रहा जब ” कमल”

—– जितेन्द्रकमल आनंद

1 Like · 1 Comment · 384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कितने एहसास हैं
कितने एहसास हैं
Dr fauzia Naseem shad
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
Suryakant Dwivedi
झुग्गियाँ
झुग्गियाँ
नाथ सोनांचली
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
गीता ज्ञान
गीता ज्ञान
Dr.Priya Soni Khare
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
👌आह्वान👌
👌आह्वान👌
*प्रणय प्रभात*
प्रेम
प्रेम
Pushpa Tiwari
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
Dr. Harvinder Singh Bakshi
"" मामेकं शरणं व्रज ""
सुनीलानंद महंत
रमल मुसद्दस महज़ूफ़
रमल मुसद्दस महज़ूफ़
sushil yadav
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पिता
पिता
Swami Ganganiya
जिंदगी में दो ही लम्हे,
जिंदगी में दो ही लम्हे,
Prof Neelam Sangwan
प्यार है ही नही ज़माने में
प्यार है ही नही ज़माने में
SHAMA PARVEEN
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
- अपनो का दर्द सहते सहनशील हो गए हम -
- अपनो का दर्द सहते सहनशील हो गए हम -
bharat gehlot
बेचैन हम हो रहे
बेचैन हम हो रहे
Basant Bhagawan Roy
आब-ओ-हवा
आब-ओ-हवा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*अपने पैरों खड़ी हो गई (बाल कविता)*
*अपने पैरों खड़ी हो गई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
मैने नहीं बुलाए
मैने नहीं बुलाए
Dr. Meenakshi Sharma
गर्मी आई
गर्मी आई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2394.पूर्णिका
2394.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
प्रेम के खातिर न जाने कितने ही टाइपिंग सीख गए,
प्रेम के खातिर न जाने कितने ही टाइपिंग सीख गए,
Anamika Tiwari 'annpurna '
"गुलशन"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...