Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

समय

मैं हर पल चलता रहता हूं,
फिर भी किसी के साथ नहीं हूं।

मैं सबका भाग्य बदलता हूं
फिर भी किसी का सगा नहीं हूं।

मैं हर घटना का साक्षी हूं
फिर भी कहीं पर साक्ष्य नहीं हूं।

नव जीवन को बढ़ते-घटते देख
फिर भी मैं अवसाद नहीं हूं।

मैं हर घाव को भर सकता हूं।
फिर भी कोई मलहम नहीं हूं,

मैं अनगिनत सबक सिखाता हूं
फिर भी किसी का शिक्षक नहीं हूं।

मैं सबसे बलवान हूं,
फिर भी हथियार -लैस नहीं हूं।

हाँ मैं समय हूं ,
सबको अपनी कीमत समझाता हूं

जो मुझे व्यर्थ करते हैं,
मैं उन्हें व्यर्थ करता हूं।

Language: Hindi
33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
FORGIVE US (Lamentations of an ardent lover of nature over the pitiable plight of “Saranda” Forest.)
FORGIVE US (Lamentations of an ardent lover of nature over the pitiable plight of “Saranda” Forest.)
Awadhesh Kumar Singh
शांति चाहिये...? पर वो
शांति चाहिये...? पर वो "READY MADE" नहीं मिलती "बनानी" पड़ती
पूर्वार्थ
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
Meera Thakur
एक चतुर नार
एक चतुर नार
लक्ष्मी सिंह
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम मेरे हो
तुम मेरे हो
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
* चलते रहो *
* चलते रहो *
surenderpal vaidya
फितरत,,,
फितरत,,,
Bindravn rai Saral
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
*मरण सुनिश्चित सच है सबका, कैसा शोक मनाना (गीत)*
*मरण सुनिश्चित सच है सबका, कैसा शोक मनाना (गीत)*
Ravi Prakash
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
गांव की सैर
गांव की सैर
जगदीश लववंशी
ग़म
ग़म
Harminder Kaur
ये सर्द रात
ये सर्द रात
Surinder blackpen
"जख्म"
Dr. Kishan tandon kranti
रंगमंच
रंगमंच
Ritu Asooja
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भौतिक युग की सम्पदा,
भौतिक युग की सम्पदा,
sushil sarna
मेरे सनम
मेरे सनम
Shiv yadav
2955.*पूर्णिका*
2955.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरा गांव
मेरा गांव
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
Paras Nath Jha
कौन्तय
कौन्तय
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
#क़तआ
#क़तआ
*प्रणय प्रभात*
*जब से मुझे पता चला है कि*
*जब से मुझे पता चला है कि*
Manoj Kushwaha PS
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
Anand Kumar
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
फूल
फूल
Punam Pande
"एहसासों के दामन में तुम्हारी यादों की लाश पड़ी है,
Aman Kumar Holy
Loading...