Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

समय

समय पर जागो , समय पर सोओ
समय पर अपना काम करो

समय पर पढ़ना , समय पर लिखना
रोशन अपना नाम करो

समय पर पूजा , काम न दूजा
समय पर , प्रभु का ध्यान करो

समय है मानव जीवन की पूँजी
समय पर तुम विश्राम करो

समय पर बोलो , समय पर खेलो
मानव तन सम्मान करो

जीवन को चरितार्थ करो तुम
कर्म को समय प्रधान करो

समय जो छूटा , सब कुछ रूठा
समय को तुम प्रणाम करो

समय का वंदन , तेरा अभिनन्दन
समय को मूल्यवान करो

समय न देखे सुबह – सवेरा
रहे न तुझसे कुछ भी अधूरा

समय पर तुम कुछ न छोड़ो
समय को समय के पलड़े में तोलो

समय जो हो जाए तेरा
समझो हो गया पूर्ण सवेरा

समय को तुम प्रणाम करो
समय को अपने मन ध्यान धरो

समय पर जागो , समय पर सोओ
समय पर अपना काम करो

समय पर पढ़ना , समय पर लिखना
रोशन अपना नाम करो

Language: Hindi
1 Like · 90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
पहले अपने रूप का,
पहले अपने रूप का,
sushil sarna
"मां के यादों की लहर"
Krishna Manshi
हिंदी
हिंदी
Mamta Rani
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
अधीर मन
अधीर मन
manisha
बसंत
बसंत
manjula chauhan
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
Jyoti Khari
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
भूख
भूख
Neeraj Agarwal
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
Kumar lalit
#अहसास से उपजा शेर।
#अहसास से उपजा शेर।
*Author प्रणय प्रभात*
25- 🌸-तलाश 🌸
25- 🌸-तलाश 🌸
Mahima shukla
तुम मन मंदिर में आ जाना
तुम मन मंदिर में आ जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
23/60.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/60.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तारों जैसी आँखें ,
तारों जैसी आँखें ,
SURYA PRAKASH SHARMA
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
Phool gufran
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
माईया पधारो घर द्वारे
माईया पधारो घर द्वारे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
घड़ी घड़ी ये घड़ी
घड़ी घड़ी ये घड़ी
Satish Srijan
राजाराम मोहन राॅय
राजाराम मोहन राॅय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*एक मां की कलम से*
*एक मां की कलम से*
Dr. Priya Gupta
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
THE MUDGILS.
THE MUDGILS.
Dhriti Mishra
......?
......?
शेखर सिंह
मजहब
मजहब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
श्रीराम मंगल गीत।
श्रीराम मंगल गीत।
Acharya Rama Nand Mandal
" क्यों? "
Dr. Kishan tandon kranti
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
Loading...