Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Sep 2016 · 1 min read

समय ने कहाँ // कविता

इंसान ने समय से पूछा,
कब ठहरोगे तुम ?
समय ने कहाँ !
मैं अनंत हूँ,
मैं परिवर्तनशील हूँ,
अतीत से कल की ओर
प्रवाहमान हूँ ?
समय ने इंसान से कहाँ
बंधु मेरे साथ चल
ना मेल होंगे दोबारा
मेरी रफ्तार से चल !
खामोशी से समय ने कहाँ
तू नहीं बड़ा इस संसार में
समय की प्रकृति समझ
तू इंतज़ार में
किसके लिए खड़ा है ?
हार के बैठा है
किस कारण से
तुम्हें मालूम हैं न
समय परिवर्तनशील, प्रवाहमान हैं ???

दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

Language: Hindi
346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar Patel
View all
You may also like:
🕊️🐧सब्र और कितना करूँ अब🐧🕊️
🕊️🐧सब्र और कितना करूँ अब🐧🕊️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नकाबपोश रिश्ता
नकाबपोश रिश्ता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम इतना सिला देना।
तुम इतना सिला देना।
Taj Mohammad
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
आईने झूठ तो बोलेंगे नहीं
आईने झूठ तो बोलेंगे नहीं
Ranjana Verma
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
हरवंश हृदय
हर कोरे कागज का जीवंत अल्फ़ाज़ बनना है मुझे,
हर कोरे कागज का जीवंत अल्फ़ाज़ बनना है मुझे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
मैं हूं आदिवासी
मैं हूं आदिवासी
नेताम आर सी
To improve your mood, exercise
To improve your mood, exercise
पूर्वार्थ
2587.पूर्णिका
2587.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
--बेजुबान का दर्द --
--बेजुबान का दर्द --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
"कोहरा रूपी कठिनाई"
Yogendra Chaturwedi
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
Dushyant Kumar
# मंजिल के राही
# मंजिल के राही
Rahul yadav
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
हम बच्चों की आई होली
हम बच्चों की आई होली
लक्ष्मी सिंह
बसंत ऋतु में
बसंत ऋतु में
surenderpal vaidya
सुप्रभात..
सुप्रभात..
आर.एस. 'प्रीतम'
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
■ अपनी-अपनी मौज।
■ अपनी-अपनी मौज।
*Author प्रणय प्रभात*
प्रणय 7
प्रणय 7
Ankita Patel
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आप इतना
आप इतना
Dr fauzia Naseem shad
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...