Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2016 · 1 min read

समयचक्र गति में

समयचक्र गति में तू भी चलता जा
लेके अपने हंसी सपनो को उड़ता जा
सूरज फिर ढल के कल उदित होगा
तेरे होंगे सपने साकार आगे बढ़ता जा

सूरज उदित हुआ है आई है नयी बेला
सूरज के साथ-साथ तू भी चलता जा
न होना पथ से विमुख मान के हार
नयी उत्साह के साथ आगे बढ़ता जा

आज मिला जो नहीं मिलेगा फिर कल
तू मंज़िल की ओऱ सरिता बन बहता जा
मिटा अपने अंदर से अज्ञानता की कालिमा
अपने ज्ञान की हर द्धार तू खोलता जा

धैर्य साहस से काम ले न हो निराश
धीरे-धीरे सफलता की सीढ़ी चढ़ता जा
समयचक्र गति में कमर कस ले अपना
मुश्किलो की सामना मुस्कुरा के करता जा

मेहनत से बनती है सबका भाग्य यहाँ पर
जो किया है उम्मीद उसे सच करता जा

लिखे जयेंगे फिर से एक नया इतिहास
ज़िन्दगी है रणभूमि योद्धा बन लड़ता जा

Language: Hindi
386 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar Patel
View all
You may also like:
*अखबारों में झूठ और सच, सबको सौ-सौ बार मिला (हिंदी गजल)*
*अखबारों में झूठ और सच, सबको सौ-सौ बार मिला (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
क्यों पड़ी है गांठ, आओ खोल दें।
क्यों पड़ी है गांठ, आओ खोल दें।
surenderpal vaidya
बुरा समय था
बुरा समय था
Swami Ganganiya
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
प्यार
प्यार
Anil chobisa
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
Satish Srijan
मां से ही तो सीखा है।
मां से ही तो सीखा है।
SATPAL CHAUHAN
दो शब्द यदि हम लोगों को लिख नहीं सकते
दो शब्द यदि हम लोगों को लिख नहीं सकते
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल - रहते हो
ग़ज़ल - रहते हो
Mahendra Narayan
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
कवि रमेशराज
बगिया
बगिया
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
shabina. Naaz
सरयू
सरयू
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
नादान पक्षी
नादान पक्षी
Neeraj Agarwal
कानून लचर हो जहाँ,
कानून लचर हो जहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
Krishna Kumar ANANT
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
'अशांत' शेखर
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
#आज_की_कविता :-
#आज_की_कविता :-
*Author प्रणय प्रभात*
2643.पूर्णिका
2643.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
ओनिका सेतिया 'अनु '
दोगला चेहरा
दोगला चेहरा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आशियाना तुम्हारा
आशियाना तुम्हारा
Srishty Bansal
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मोबाइल महिमा
मोबाइल महिमा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Loading...