Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2016 · 1 min read

समयचक्र गति में

समयचक्र गति में तू भी चलता जा
लेके अपने हंसी सपनो को उड़ता जा
सूरज फिर ढल के कल उदित होगा
तेरे होंगे सपने साकार आगे बढ़ता जा

सूरज उदित हुआ है आई है नयी बेला
सूरज के साथ-साथ तू भी चलता जा
न होना पथ से विमुख मान के हार
नयी उत्साह के साथ आगे बढ़ता जा

आज मिला जो नहीं मिलेगा फिर कल
तू मंज़िल की ओऱ सरिता बन बहता जा
मिटा अपने अंदर से अज्ञानता की कालिमा
अपने ज्ञान की हर द्धार तू खोलता जा

धैर्य साहस से काम ले न हो निराश
धीरे-धीरे सफलता की सीढ़ी चढ़ता जा
समयचक्र गति में कमर कस ले अपना
मुश्किलो की सामना मुस्कुरा के करता जा

मेहनत से बनती है सबका भाग्य यहाँ पर
जो किया है उम्मीद उसे सच करता जा

लिखे जयेंगे फिर से एक नया इतिहास
ज़िन्दगी है रणभूमि योद्धा बन लड़ता जा

Language: Hindi
Tag: कविता
287 Views
You may also like:
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोबाइल का आशिक़
आकाश महेशपुरी
पिनाका
Utkarsh Dubey “Kokil”
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल किसी से अगर लगायेगा
Dr fauzia Naseem shad
राम नाम जप ले
Swami Ganganiya
तपिश
SEEMA SHARMA
मोहिनी
लक्ष्मी सिंह
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
मजदूर- ए- औरत
AMRESH KUMAR VERMA
कल्पना
Anamika Singh
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मन का घाट
Rashmi Sanjay
अल्फाज़ ए ताज भाग -10
Taj Mohammad
✍️नफरत की पाठशाला✍️
'अशांत' शेखर
“ मूक बधिर ना बनकर रहना ”
DrLakshman Jha Parimal
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
मानवता का गान है हिंदी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिल की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रावण के मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
जंग
shabina. Naaz
आइए डिजिटल उपवास की ओर बढ़ते हैं!
Deepak Kohli
मदार चौक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अरि ने अरि को
bhavishaya6t
छोटे गाँव का लड़का था मैं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
Loading...