Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2023 · 1 min read

समझदार बेवकूफ़

एक गधे ने दूसरे गधे से कहा ,

लोग खामखां हमें बदनाम करते हैं ,
पर इंसान कुछ ऐसे काम करते हैं ,

जिन्हें देखकर कहते हमें शर्म आती है ,
सियासत में ऐसी बख़िया उधेड़ी जाती है ,

जिसमें नेता एक दूसरे को
नंगा करते हैं ,
फिर भी अपनी करतूतों से
बाज़ नहीं आते हैं ,

वक्त बदलने पर ये खुदगर्ज़ पार्टी
बदल लेते हैं ,
जिसे पहले चोर कहा था उसी के
कसीदे पढ़ने लगते हैं ,

इनका कोई ज़मीर-ओ – ईमान
नहीं होता है ,
अपनों से प्यारा इन्हें अपना रुसूख़ और
पैसा होता है ,

चुनाव आने पर अवाम पर इनका
प्यार उमड़ता है ,
जीतने पर इनका चेहरा कहीं
गुम हो जाता है ,

अवाम को बेवक़ूफ़ बनाने में ये
अव्व़ल दर्जे़ के फ़नकार होते हैं ,
नामचीन अदा-कार भी पीछे छूट जाऐं
ऐसे ये नाटककार होते हैं ,

ये इंसान जो हमेशा हमें जाहिल
बेवक़ूफ़ कहते हैं ,
पर ये समझदार हर बार
बेवक़ूफ़ बनकर इन्हें ही चुनते हैं।

2 Likes · 144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
नाथ सोनांचली
💐अज्ञात के प्रति-57💐
💐अज्ञात के प्रति-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारत की पुकार
भारत की पुकार
पंकज प्रियम
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
"अटल सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
दीवारों में दीवारे न देख
दीवारों में दीवारे न देख
Dr. Sunita Singh
डर
डर
अखिलेश 'अखिल'
हमें जीना सिखा रहे थे।
हमें जीना सिखा रहे थे।
Buddha Prakash
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
*ढूंढ लूँगा सखी*
*ढूंढ लूँगा सखी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
goutam shaw
*हम नदी के दो किनारे*
*हम नदी के दो किनारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मिथ्या इस  संसार में,  अर्थहीन  सम्बंध।
मिथ्या इस संसार में, अर्थहीन सम्बंध।
sushil sarna
हम आगे ही देखते हैं
हम आगे ही देखते हैं
Santosh Shrivastava
जब तक जरूरत अधूरी रहती है....,
जब तक जरूरत अधूरी रहती है....,
कवि दीपक बवेजा
संकल्प
संकल्प
Bodhisatva kastooriya
खेतों में हरियाली बसती
खेतों में हरियाली बसती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
Manisha Manjari
जीवन यात्रा
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
अज्ञात
अज्ञात
Shyam Sundar Subramanian
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
Phool gufran
२०२३ में विपक्षी दल, मोदी से घवराए
२०२३ में विपक्षी दल, मोदी से घवराए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जग के जीवनदाता के प्रति
जग के जीवनदाता के प्रति
महेश चन्द्र त्रिपाठी
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
साहब कहता वेट घटाओ
साहब कहता वेट घटाओ
Satish Srijan
मन से भी तेज ( 3 of 25)
मन से भी तेज ( 3 of 25)
Kshma Urmila
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
surenderpal vaidya
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
Loading...