Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2023 · 1 min read

सभ प्रभु केऽ माया थिक…

सभ प्रभु केऽ माया थिक…
~~°~~°~~°
मूर्ख व्यक्ति में उत्पन्न अहंकार ,
प्रभु भक्ति से नष्ट भऽ सकैछ ।
मुदा ज्ञानीजन में यदि अहंकार उत्पन्न होइछ ,
तऽ ओ सर्पविष सऽ कम घातक नहिं।
ई किन्नहु नष्ट नै भऽ सकैछ ,
अहंकार हुनक शरीर के साथे जायत।
सभ प्रभु केऽ माया थिक…

चाहे लाख जतन कऽ लिअउ ,
हजार उपदेश कान में ठुसि दिअउ ।
भाँति भाँति के जोगाड़ लगा लिअउ,
प्रेमक पाँति सऽ हृदयक तार झंकृत कय दिऔन।
हुनक कुतर्क के आगाँ अहां निष्फले रहब ,
एहि युग के रावण अडिगे रहत ।
सभ प्रभु केऽ माया थिक…

तुलसीदास रामचरितमानस के चौपाई ,
कोन मनोभाव आ मानसिकता में लिखने हेताह।
ओहि मनोभाव परखब संभव नहिं भेल ,
ते पूरा रामायणे के जला दियौक ।
धर्मग्रंथ के श्रद्धा निष्ठा के बिना पढब ,
ते मगज में लूत्ती उड़बे करत ।
सभ प्रभु केऽ माया थिक…

तुलसीदास एक जगह लिखने छैथ _
” जाकी रही भावना जैसी ,
प्रभु मूरत देखी तिन तैसी ”
ओ ढोल गंवार शुद्र पशु नारी के उल्लेख ,
कोन भाव, कोन अलंकार लेल केयने रहैथ ,
जानब नै,बस कूपमण्डूक बनि जहर उगलैत रहउ ।
ईहो वोटक खेला तऽ प्रभू केऽ माया थिक…

मौलिक आओर स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०२ /०२ /२०२३
माघ,शुक्ल पक्ष ,द्वादशी,गुरुवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

1 Like · 238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
*करिए जीवन में सदा, प्रतिदिन पावन योग (कुंडलिया)*
*करिए जीवन में सदा, प्रतिदिन पावन योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"प्रतिष्ठा"
Dr. Kishan tandon kranti
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गौमाता की व्यथा
गौमाता की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
The_dk_poetry
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
पावन सावन मास में
पावन सावन मास में
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
खुल जाये यदि भेद तो,
खुल जाये यदि भेद तो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
When life  serves you with surprises your planning sits at b
When life serves you with surprises your planning sits at b
Nupur Pathak
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Hard work is most important in your dream way
Hard work is most important in your dream way
Neeleshkumar Gupt
बाजारवाद
बाजारवाद
Punam Pande
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
SPK Sachin Lodhi
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
वाणी वंदना
वाणी वंदना
Dr Archana Gupta
हक़ीक़त पर रो दिया
हक़ीक़त पर रो दिया
Dr fauzia Naseem shad
2591.पूर्णिका
2591.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
Arvind trivedi
!! निरीह !!
!! निरीह !!
Chunnu Lal Gupta
सुहागन का शव
सुहागन का शव
Anil "Aadarsh"
Rebel
Rebel
Shekhar Chandra Mitra
एक कविता उनके लिए
एक कविता उनके लिए
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*अजीब आदमी*
*अजीब आदमी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुर्योधन को चेतावनी
दुर्योधन को चेतावनी
SHAILESH MOHAN
Loading...