Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-328💐

सभी हसरत डुबो दीं गईं हैं,
हर बात मेरी छीन लीं गईं हैं,
अब पयाम भेजने से क्या हो,
जब ये दूरियाँ हीं दे दीं गईं हैं।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
41 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
Almost everyone regard this world as a battlefield and this
Almost everyone regard this world as a battlefield and this
Nav Lekhika
मेरी परछाई बस मेरी निकली
मेरी परछाई बस मेरी निकली
Dr fauzia Naseem shad
अभी भी शुक्रिया साँसों का, चलता सिलसिला मालिक (मुक्तक)
अभी भी शुक्रिया साँसों का, चलता सिलसिला मालिक (मुक्तक)
Ravi Prakash
ओस की बूंद
ओस की बूंद
RAKESH RAKESH
*मजदूर*
*मजदूर*
Shashi kala vyas
अदम गोंडवी
अदम गोंडवी
Shekhar Chandra Mitra
दर्पण में जो मुख दिखे,
दर्पण में जो मुख दिखे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ तेवरी / देसी ग़ज़ल
■ तेवरी / देसी ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
एक कदम सफलता की ओर...
एक कदम सफलता की ओर...
Manoj Kushwaha PS
अस्पताल
अस्पताल
Dr. Rajiv
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
Tarun Prasad
केहरि बनकर दहाड़ें
केहरि बनकर दहाड़ें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
'स्वागत प्रिये..!'
'स्वागत प्रिये..!'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
★उसकी यादों का साया★
★उसकी यादों का साया★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
कलम
कलम
शायर देव मेहरानियां
कैसे कह दूं पंडित हूँ
कैसे कह दूं पंडित हूँ
Satish Srijan
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
ख़याल
ख़याल
नन्दलाल सुथार "राही"
💐अज्ञात के प्रति-49💐
💐अज्ञात के प्रति-49💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुरु
गुरु
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बेवफाई मुझसे करके तुम
बेवफाई मुझसे करके तुम
gurudeenverma198
Laghukatha :-Kindness
Laghukatha :-Kindness
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ़ लेना सरकार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ़ लेना सरकार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
युद्ध के मायने
युद्ध के मायने
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मित्र कौन है??
मित्र कौन है??
Ankita Patel
अगर सक्सेज चाहते हो तो रुककर पीछे देखना छोड़ दो - दिनेश शुक्
अगर सक्सेज चाहते हो तो रुककर पीछे देखना छोड़ दो - दिनेश शुक्
dks.lhp
अहं
अहं
Shyam Sundar Subramanian
Loading...