Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 1 min read

*सब पर मकान-गाड़ी, की किस्त की उधारी (हिंदी गजल)*

सब पर मकान-गाड़ी, की किस्त की उधारी (हिंदी गजल)
—————————————-
(1)
सब पर मकान-गाड़ी, की किस्त की उधारी
बच्चों की फीस लेकिन, सबसे बढ़ के भारी
(2)
हर क्षेत्र में ये लोहा, मनवा रही हैं अपना
कैसी बराबरी अब, नर से है आगे नारी
(3)
होती किताबों ही में, हैं नारियों की पूजा
घर-घर दहेज -हिंसा, का दौर अब भी जारी
(4)
हर ओर ऑन‌लाइन, का दिख रहा जमाना
निभती इसी से यारी, सब भॉंति रिश्तेदारी
(5)
जो गलतियाँ तुम्हारी, मुँह पर तुम्हें बता दे
तुमको सुधार देगा, उसके रहो आभारी
(6)
घर बन रहे पड़ोसी, का देखकर पड़ोसी
ऐसा बुझा हुआ ज्यों, हारा हुआ जुआरी
—————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 361 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
Ranjeet kumar patre
नजर से मिली नजर....
नजर से मिली नजर....
Harminder Kaur
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
*अजीब आदमी*
*अजीब आदमी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
कवि दीपक बवेजा
प्यार का बँटवारा
प्यार का बँटवारा
Rajni kapoor
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हाय गरीबी जुल्म न कर
हाय गरीबी जुल्म न कर
कृष्णकांत गुर्जर
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
surenderpal vaidya
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
Seema Verma
"प्यार का रोग"
Pushpraj Anant
कलम व्याध को बेच चुके हो न्याय भला लिक्खोगे कैसे?
कलम व्याध को बेच चुके हो न्याय भला लिक्खोगे कैसे?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
मानव के बस में नहीं, पतझड़  या  मधुमास ।
मानव के बस में नहीं, पतझड़ या मधुमास ।
sushil sarna
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
गांव
गांव
Bodhisatva kastooriya
3145.*पूर्णिका*
3145.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ
माँ
Raju Gajbhiye
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
Monika Verma
दिल जीतने की कोशिश
दिल जीतने की कोशिश
Surinder blackpen
मेरा दिन भी आएगा !
मेरा दिन भी आएगा !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...