Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 2 min read

सब अनहद है

जिसने सूरज चाँद बनाया,
धरा गगन ब्रह्मांड बनाया।
जिसने सुमन सुंगन्ध भरा है,
जिससे तरु तृण हरा हरा हैं।

अनन्तक्षितिज तक जो भी हद है।
और नहीं कुछ सब अनहद है।

एक बूंद जल कैसे फलता,
कैसे गर्भ में जीवन पलता।
बिना पवन के सांसे चलती,
अति लघु घर में देही पलती।

मंथर मंथर बढ़ता कद है,
और नहीं कुछ सब अनहद है।

प्रातः कैसे सूर्य उगाता,
रात में चंदा मामा लाता।
कैसे कण अंकुर बन जाये,
कैसे भंवरा गुन गुन गाये।

ऋतु में पावस ग्रीष्म शरद है,
और नहीं कुछ सब अनहद है।

वही धरा पर गन्ना उगता,
इमली नीम केरला लगता।
चंदन महर महर महकाता,
रेंण पेंड दुर्गंध बहाता।

मीठे आम से बिरवा लद है,
और नहीं कुछ सब अनहद है।

उसी ने नर की देह बनाया,
देह में अपना गेह बनाया।
नौ दरवाजे एक झरोखा,
बहुत वृहद उपहार अनोखा।

सोच सोचकर मन गदगद है,
और नहीं कुछ सब अनहद है।

मोखे में एक नन्हा तिल है,
तिल सदैव करता झिलमिल है।
नयन मूंद दिखता अंधियारा,
अनहद जगे होय उजियारा।

वहां न काम क्रोध छल मद है,
और नहीं कुछ सब अनहद है।

नानक कविरा मीरा गाया,
तुलसी सूर रैदास को भाया।
बुल्ला बाहू रूम लुभाया,
निज में अनहद नाद जगाया।

अनहद में मिलबने अन हद है,
और नहीं कुछ सब अनहद है।

अनहद है करतारी शक्ती
कर अनहद की प्यारी भक्ती।
जिसने इससे की अनुरक्ती,
जग से होती सहज विरक्ती।

अनहद में मुक्ती की जद है,
और नहीं कुछ सब अनहद है।

अनहद चाह तो गुरु घर जाओ,
बनकर अनुचर युक्ती पाओ।
अनहद गाओ अनहद पूजो,
हरि अनहद सम हैं नहीं दूजो।

हरि बेहद अनहद बेहद है,
और नहीं कुछ सब अनहद है।

जब से सन्त गुरु है पाया,
तबसे केवल अनहद गाया।
सिरजन अब अनहद अनुरागी,
गुरु कृपा से है बड़भागी।

अनहद संगति अमृत पद है,
और नहीं कुछ सब अनहद है।

2 Likes · 66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
स्वयं का बैरी
स्वयं का बैरी
Dr fauzia Naseem shad
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
surenderpal vaidya
3198.*पूर्णिका*
3198.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ जवाब शांति से दो
कुछ जवाब शांति से दो
पूर्वार्थ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ओ! महानगर
ओ! महानगर
Punam Pande
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
थक गये चौकीदार
थक गये चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
और चौथा ???
और चौथा ???
SHAILESH MOHAN
ज़िन्दगी और प्रेम की,
ज़िन्दगी और प्रेम की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रश्रयस्थल
प्रश्रयस्थल
Bodhisatva kastooriya
आंगन को तरसता एक घर ....
आंगन को तरसता एक घर ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
राजेश बन्छोर
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
काली छाया का रहस्य - कहानी
काली छाया का रहस्य - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आशा
आशा
Sanjay ' शून्य'
शायरी
शायरी
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
कवि दीपक बवेजा
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कैसे करें इन पर यकीन
कैसे करें इन पर यकीन
gurudeenverma198
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
Neelam Sharma
"आज का दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
जयंत (कौआ) के कथा।
जयंत (कौआ) के कथा।
Acharya Rama Nand Mandal
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
कृष्णकांत गुर्जर
हिंसा रोकना स्टेट पुलिस
हिंसा रोकना स्टेट पुलिस
*Author प्रणय प्रभात*
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
शेखर सिंह
Loading...