Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Dec 2022 · 1 min read

सबक

मेरा घुटता है दम
रिवाजों के जाल में!
आख़िर कोई जीए
किस तरह इस हाल में!
लगता है अवाम ने
कुछ भी नहीं सीखा!
गुलामी के पिछले
पांच हज़ार साल में!
#WaitingForAVisa #मज़दूर
#दलित #पिछड़ा #आदिवासी
#JNU #औरत #politics
#आजादी #बराबरी #Caste
#communal #riots #दंगा
#Tribes #SC #OBC #ST

Language: Hindi
262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाय
चाय
Dr. Seema Varma
जो बैठा है मन के अंदर उस रावण को मारो ना
जो बैठा है मन के अंदर उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
"दीया और तूफान"
Dr. Kishan tandon kranti
3175.*पूर्णिका*
3175.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
Ranjeet kumar patre
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
Ram Krishan Rastogi
रिश्तो को कायम रखना चाहते हो
रिश्तो को कायम रखना चाहते हो
Harminder Kaur
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
कवि रमेशराज
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पहले नामकरण
पहले नामकरण
*Author प्रणय प्रभात*
एक दिवाली ऐसी भी।
एक दिवाली ऐसी भी।
Manisha Manjari
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
बहुत ही हसीन तू है खूबसूरत
बहुत ही हसीन तू है खूबसूरत
gurudeenverma198
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"सुखी हुई पत्ती"
Pushpraj Anant
"धन वालों मान यहाँ"
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कैसे कह दूं पंडित हूँ
कैसे कह दूं पंडित हूँ
Satish Srijan
*जन्मजात कवि थे श्री बृजभूषण सिंह गौतम अनुराग*
*जन्मजात कवि थे श्री बृजभूषण सिंह गौतम अनुराग*
Ravi Prakash
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
"आतिशे-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
shri rahi Kabeer
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
Kanchan Khanna
महसूस खुद को
महसूस खुद को
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी
जिन्दगी
लक्ष्मी सिंह
प्रेम - एक लेख
प्रेम - एक लेख
बदनाम बनारसी
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
Sunita Gupta
Loading...