Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

“सफलता का राज”

“सफलता का राज”
असफलता में ही छुपी कहीं पर
सफलता का राज,
बड़े ध्यान से सुन लीजिए जरा
ये पते की बात।
नई-नई खोज और प्रयोग होते
असफलता के कारण,
सारे रोग और समस्याओं का
होते तभी निवारण।

1 Like · 1 Comment · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
न दिया धोखा न किया कपट,
न दिया धोखा न किया कपट,
Satish Srijan
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
कवि रमेशराज
जागृति
जागृति
Shyam Sundar Subramanian
भारत माता की संतान
भारत माता की संतान
Ravi Yadav
Be careful having relationships with people with no emotiona
Be careful having relationships with people with no emotiona
पूर्वार्थ
जीवन बूटी कौन सी
जीवन बूटी कौन सी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
Dr fauzia Naseem shad
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मनुष्य
मनुष्य
Sanjay ' शून्य'
हर किसी का कर्ज़ चुकता हो गया
हर किसी का कर्ज़ चुकता हो गया
Shweta Soni
3035.*पूर्णिका*
3035.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कौन कहता है कि नदी सागर में
कौन कहता है कि नदी सागर में
Anil Mishra Prahari
फर्ज मां -बाप के याद रखना सदा।
फर्ज मां -बाप के याद रखना सदा।
Namita Gupta
माँ का आशीर्वाद पकयें
माँ का आशीर्वाद पकयें
Pratibha Pandey
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"कौआ"
Dr. Kishan tandon kranti
😊संशोधित कविता😊
😊संशोधित कविता😊
*Author प्रणय प्रभात*
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
Alka Gupta
*भले प्रतिकूल हो मौसम, मगर हँसकर उसे सहना 【मुक्तक】*
*भले प्रतिकूल हो मौसम, मगर हँसकर उसे सहना 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
आस्था
आस्था
Neeraj Agarwal
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"गंगा माँ बड़ी पावनी"
Ekta chitrangini
काश कही ऐसा होता
काश कही ऐसा होता
Swami Ganganiya
सरसी छंद और विधाएं
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
Dr MusafiR BaithA
बचपन
बचपन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
Ranjeet kumar patre
दिल से कह देना कभी किसी और की
दिल से कह देना कभी किसी और की
शेखर सिंह
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
ruby kumari
Loading...