Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2017 · 1 min read

सफर

((( सफ़र ))))

( १ )
गतिमान है रवि की परिक्रमा,
बुलंद है सहस्त्र नक्षत्रों का सफ़र |
सफ़र में है ये सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड,
सुदूर है अनंत, अविरल ये सफ़र ||

( २ )
पादप हो या हो जीव-जन्तु,
मृत्यु तलक है जीवन का सफ़र |
आत्मा का सफ़र परमात्मा तक,
अद्भुत, अबाधित है ऐसा सफ़र ||

( ३ )
है लघु सफ़र कहीं दीर्घ सफ़र,
हैं सारे यहाँ सफ़र की गाड़ी में |
दो युगल-प्रेमी भी हैं सवार बैठे,
प्रेम-नैय्या की दौड़ती सवारी में ||

( ४ )
नव शिशु भी है सवार यहाँ,
निज उम्र की भागती सवारी में |
नव युवक भी यात्रा पर यहाँ,
स्व लक्षित सपनों की तैयारी में |

#दिनेश एल० “जैहिंद”
23. 01. 2017

Language: Hindi
234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!! चमन का सिपाही !!
!! चमन का सिपाही !!
Chunnu Lal Gupta
"छ.ग. पर्यटन महिमा"
Dr. Kishan tandon kranti
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
भय भव भंजक
भय भव भंजक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अभागा
अभागा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Dr अरूण कुमार शास्त्री
Dr अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देशभक्ति जनसेवा
देशभक्ति जनसेवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
Neelam Sharma
कस्तूरी इत्र
कस्तूरी इत्र
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
विभेद दें।
विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोशिश न करना
कोशिश न करना
surenderpal vaidya
अन्न पै दाता की मार
अन्न पै दाता की मार
MSW Sunil SainiCENA
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ Rãthí
*किसी की जेब खाली है, किसी के पास पैसे हैं 【मुक्तक】*
*किसी की जेब खाली है, किसी के पास पैसे हैं 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी, क्या है?
जिंदगी, क्या है?
bhandari lokesh
says wrong to wrong
says wrong to wrong
Satish Srijan
"अपेक्षा"
Yogendra Chaturwedi
इंसान हूं मैं आखिर ...
इंसान हूं मैं आखिर ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
2892.*पूर्णिका*
2892.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
होलिका दहन कथा
होलिका दहन कथा
विजय कुमार अग्रवाल
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...