Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

सफर या रास्ता

निकला था मैं सफर पर, मंज़िल तलाशता
मंजिल सफर ही बन गया, मोहक है रास्ता

इस राह में बचपन मिला, मासूमियत लिए
यौवन के फूल भी खिले , सुगंध को लिए।
थी दुख की कड़ी धूप भी, थी सुख की छाँव भी
काँटे भी चुभे पाँव में , बिखरे सुमन मिले

जीवन की प्रीत भी मिली और मन का मीत भी
बिछुड़े, मिले साथी कई, कुछ देर संग चले।
छाए कभी बादल घने, तूफां ने भी घेरा
बीती अमा की रात भी , फिर उजला सवेरा।

पर्वत की दुरूहता ने कभी पथ मेरा रोका
निश्चय के हथौड़े से , गुरुर उसका भी तोड़ा।
तपती थी रेत, जलते पाँव, कंठ भी सूखा
पर आस की किरण ने कभी साथ न छोड़ा

मंज़िल है क्या, जाना कहाँ, पाना मुझे है क्या
इसकी कोई फ़िकर नहीं, भाया है रास्ता।
ले जाएगा उंगली पकड़ मंज़िल जो हो मेरी
ये कर्म ही तो धर्म है , इससे ही वास्ता।
मंज़िल सफर ही बन गया, मोहक है रास्ता।

डॉ. मंजु सिंह गुप्ता

Language: Hindi
1 Like · 58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
Kuldeep mishra (KD)
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
नवीन जोशी 'नवल'
💐प्रेम कौतुक-523💐
💐प्रेम कौतुक-523💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारत का फौजी जवान
भारत का फौजी जवान
Satish Srijan
तेरी महबूबा बनना है मुझे
तेरी महबूबा बनना है मुझे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
राम पर हाइकु
राम पर हाइकु
Sandeep Pande
..........?
..........?
शेखर सिंह
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
ज़िंदगी को इस तरह भी
ज़िंदगी को इस तरह भी
Dr fauzia Naseem shad
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
लालच का फल
लालच का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आजादी का
आजादी का "अमृत महोत्सव"
राकेश चौरसिया
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
Shubham Pandey (S P)
*पानी बरसा हो गई, आफत में अब जान (कुंडलिया)*
*पानी बरसा हो गई, आफत में अब जान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
फ़साना-ए-उल्फ़त सुनाते सुनाते
फ़साना-ए-उल्फ़त सुनाते सुनाते
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
कवि रमेशराज
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
यारों की आवारगी
यारों की आवारगी
The_dk_poetry
आलेख - मित्रता की नींव
आलेख - मित्रता की नींव
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
बचपन में थे सवा शेर जो
बचपन में थे सवा शेर जो
VINOD CHAUHAN
जिन्हें रोते-रोते
जिन्हें रोते-रोते
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...