Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

*सदियों से सुख-दुख के मौसम, इस धरती पर आते हैं (हिंदी गजल)*

सदियों से सुख-दुख के मौसम, इस धरती पर आते हैं (हिंदी गजल)
_________________________
1)
सदियों से सुख-दुख के मौसम, इस धरती पर आते हैं
जब-जब जिसके लिखा भाग्य में, वैसा मौसम पाते हैं
2)
पूर्व जन्म के पुण्यों से शुचि, सुंदर जिनका जन्म हुआ
ध्यान-योग की दीक्षा लेकर, ब्रह्मलोक वह जाते हैं
3)
मनुज जन्म है कर्म योनि में, इसमें मनुज स्वतंत्र हुआ
अच्छे और बुरे प्राणी सब, कर्मों से कहलाते हैं
4)
मिलते हैं दो लोग धरा पर, एक जटिल संरचना से
उलझट्टे किन-किन जन्मों के, जाने उन्हें मिलाते हैं
5)
गिनती की सॉंसें पाई हैं, सब ने धरती पर आकर
रंगमंच पर पल-दो पल का, खेल सभी दिखलाते हैं
————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
शायर की मोहब्बत
शायर की मोहब्बत
Madhuyanka Raj
प्रकृति का गुलदस्ता
प्रकृति का गुलदस्ता
Madhu Shah
2785. *पूर्णिका*
2785. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये कलयुग है ,साहब यहां कसम खाने
ये कलयुग है ,साहब यहां कसम खाने
Ranjeet kumar patre
हमको तू ऐसे नहीं भूला, बसकर तू परदेश में
हमको तू ऐसे नहीं भूला, बसकर तू परदेश में
gurudeenverma198
*** हम दो राही....!!! ***
*** हम दो राही....!!! ***
VEDANTA PATEL
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*.....उन्मुक्त जीवन......
*.....उन्मुक्त जीवन......
Naushaba Suriya
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पाप का भागी
पाप का भागी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन में अहम और वहम इंसान की सफलता को चुनौतीपूर्ण बना देता ह
जीवन में अहम और वहम इंसान की सफलता को चुनौतीपूर्ण बना देता ह
Lokesh Sharma
19--🌸उदासीनता 🌸
19--🌸उदासीनता 🌸
Mahima shukla
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
THE SUN
THE SUN
SURYA PRAKASH SHARMA
मृगनयनी
मृगनयनी
Kumud Srivastava
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
धरती
धरती
manjula chauhan
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
शेखर सिंह
"शब्दों की सार्थकता"
Dr. Kishan tandon kranti
"वीक-एंड" के चक्कर में
*प्रणय प्रभात*
*शाश्वत जीवन-सत्य समझ में, बड़ी देर से आया (हिंदी गजल)*
*शाश्वत जीवन-सत्य समझ में, बड़ी देर से आया (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
*सर्दी की धूप*
*सर्दी की धूप*
Dr. Priya Gupta
किसी मोड़ पर अब रुकेंगे नहीं हम।
किसी मोड़ पर अब रुकेंगे नहीं हम।
surenderpal vaidya
आदमी के नयन, न कुछ चयन कर सके
आदमी के नयन, न कुछ चयन कर सके
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भोर
भोर
Omee Bhargava
बात तो कद्र करने की है
बात तो कद्र करने की है
Surinder blackpen
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...