Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

सत्य

कविता :
०००००
सत्य
०००००
🦚
मोक्ष मार्ग भी मिल जायेगा , पहले मन में प्यार भरें ।
दोनों हाथों प्रेम‌ उलीचें , प्रीत करें मनुहार करें ।।
वह भी क्या मन जिसके अंदर, वात्सल्य की धार न हो ।
तीर्थ वही मन हो जाता है, जिसमें‌ कहीं विकार न हो ।।

🦚
अपनी ‌दिनचर्या को हमने , परखा नहीं कसौटी पर ।
जीवन बीता केवल जोड़े , कंकर-पत्थर मुट्ठी भर ।।
सोचा नहीं कभी भी संचित , यहीं धरा रह जायेगा ।
निश्चित है गगरी टूटेगी, पानी सा बह जायेगा ।।

🦚
प्रश्न‌ कभी तो करें स्वयं से, कौन कहाँ से आये हम ?
मेरा-मेरा करते रहते, लिया जन्म ‌क्या लाये हम ?
किसकी माया है ये सारी , किंचित नहीं विचार किया ।
खाया-पीया सोये-जागे , जीवन व्यर्थ गुजार दिया ।।
🦚
सबसे प्यारा धर्म‌ सनातन त्याग सिखाता जीवन में ।
भाव अहिंसा का भरता है, धर्म हमारा जन-मन में ।।
जियो और जीने दो सबको, धर्म हमारा सिखलाता ।
खोज सत्य की जो करता है, श्रावक वही मोक्ष पाता ।।
🦚

4 Likes · 2 Comments · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahesh Jain 'Jyoti'
View all
You may also like:
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
व्यथित ह्रदय
व्यथित ह्रदय
कवि अनिल कुमार पँचोली
सीमा प्रहरी
सीमा प्रहरी
लक्ष्मी सिंह
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
Sukoon
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
Ranjeet kumar patre
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
Dr MusafiR BaithA
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
*प्रणय प्रभात*
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सत्य कुमार प्रेमी
** राह में **
** राह में **
surenderpal vaidya
जीवन पर
जीवन पर
Dr fauzia Naseem shad
जिनकी खातिर ठगा और को,
जिनकी खातिर ठगा और को,
डॉ.सीमा अग्रवाल
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सत्य संकल्प
सत्य संकल्प
Shaily
रमेशराज का हाइकु-शतक
रमेशराज का हाइकु-शतक
कवि रमेशराज
ख्वाबों में मिलना
ख्वाबों में मिलना
Surinder blackpen
ख़ुदा बताया करती थी
ख़ुदा बताया करती थी
Madhuyanka Raj
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
“ फौजी और उसका किट ” ( संस्मरण-फौजी दर्शन )
“ फौजी और उसका किट ” ( संस्मरण-फौजी दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
Manisha Manjari
अब ना होली रंगीन होती है...
अब ना होली रंगीन होती है...
Keshav kishor Kumar
"खामोशी"
Dr. Kishan tandon kranti
THE MUDGILS.
THE MUDGILS.
Dhriti Mishra
इक बार वही फिर बारिश हो
इक बार वही फिर बारिश हो
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
हम तुम
हम तुम
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
बारिश की बूंद
बारिश की बूंद
Neeraj Agarwal
23/18.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/18.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आत्म  चिंतन करो दोस्तों,देश का नेता अच्छा हो
आत्म चिंतन करो दोस्तों,देश का नेता अच्छा हो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...