Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2016 · 1 min read

सत्य की सरिता

?
सत्य की सरिता
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
चल चलें उस ओर कि
सतन्याय सबको मिल सके ।
सत्य की सरिता में जन
अधिकार सबको मिल सके ।।

नित्य नूतन देशना से
मन ये सिंचित हो रहा है ।
सत्य शोधित मंत्रणा से
न्याय निर्मित हो रहा है ।।
दार्शनिक सदज्ञान का
आधार सबको मिल सके ।
सत्य की सरिता में………….

दुर्दिशा में जा रही
धारा मनुज संज्ञान की ।
धूर्त के चंगुल में है
अब शांति हर इंसान की ।।
स्वातंत्र्य और सामर्थ्य का
विस्तार सबको मिल सके ।
सत्य की सरिता……………….

आज तो हर कण जगत का
गीत सत का गा रहा है ।
न्याय का वारिद तृषा की
ओर सत्वर जा रहा है ।।
सामरिक यह पूर्णता
अब हर किसी को मिल सके ।
सत्य की सरिता…………….

-(सामरिक अरुण)
WCM NDS हरिद्वार
22/05/2016
www.nyayadharmsabha.org

Language: Hindi
Tag: गीत
508 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
Sanjay ' शून्य'
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
Phool gufran
"रंग वही लगाओ रे"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
ज़रूरत के तकाज़ो पर
ज़रूरत के तकाज़ो पर
Dr fauzia Naseem shad
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मोहब्बत जिससे हमने की है गद्दारी नहीं की।
मोहब्बत जिससे हमने की है गद्दारी नहीं की।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
** अब मिटाओ दूरियां **
** अब मिटाओ दूरियां **
surenderpal vaidya
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
Mahesh Tiwari 'Ayan'
Feel it and see that
Feel it and see that
Taj Mohammad
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
Mahender Singh Manu
मंजिल
मंजिल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
करो कुछ मेहरबानी यूँ,
करो कुछ मेहरबानी यूँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खबर हादसे की
खबर हादसे की
AJAY AMITABH SUMAN
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
Ms.Ankit Halke jha
जीवन का एक चरण
जीवन का एक चरण
पूर्वार्थ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
***
*** " मन बावरा है...!!! " ***
VEDANTA PATEL
डर होता है
डर होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आओ हम मुहब्बत कर लें
आओ हम मुहब्बत कर लें
Shekhar Chandra Mitra
गरम कचौड़ी यदि सिंकी , बाकी सब फिर फेल (कुंडलिया)
गरम कचौड़ी यदि सिंकी , बाकी सब फिर फेल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
नैतिक मूल्य
नैतिक मूल्य
Saraswati Bajpai
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
नादानी
नादानी
Shaily
तुम बहुत प्यारे हो
तुम बहुत प्यारे हो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU
राहें भी होगी यूं ही,
राहें भी होगी यूं ही,
Satish Srijan
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
हमको बच्चा रहने दो।
हमको बच्चा रहने दो।
Manju Singh
तन्हाई के पर्दे पर
तन्हाई के पर्दे पर
Surinder blackpen
Loading...