Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

सत्य की खोज

सत्य खोजने जो चला मैं शास्त्रों में
सत्य जीतने की शक्ति ढूंढू शस्त्रों में
कभी सत्य ढूंढता ये मुखमुद्राओं में
कभी ढूंढता द्रव्य मणि मुद्राओं में
कभी ढूंढता हूं गुरु की कक्षाओं में
तो कभी जीवन की ये परिक्षाओं में

पर सत्य पाता खिले जंगली फूल में
ये निर्मल बहती धाराओं के मूल में
एक मासूम बच्चे की किलकारी में
एक मां के ममता की किरदारी में

सत्य सुनता चिड़िया की चहक में
सत्य सूंघता मिट्टी सोंधी महक में
सत्य देखता सूरज की किरणों में
पाता सत्य मरीचिका सी हिरणों में

सत्य मधु,सत्य पराग,सत्य वह मोती
खोज इसकी बाहर नही अंदर में होती
सत्य खोजने पहले खोजने होती दृष्टि
वो दृष्टि मिले तो सत्य लगे सारी सृष्टि
~०~
सत्य की खोज: काव्य प्रतियोगिता: रचना संख्या -०२:
स्वरचित और मौलिक © जीवनसवारो
१९, मार्च,२०२४.

4 Likes · 64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
View all
You may also like:
हाइकु - 1
हाइकु - 1
Sandeep Pande
भावनाओं की किसे पड़ी है
भावनाओं की किसे पड़ी है
Vaishaligoel
"पैमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kumar lalit
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
*हिंदी दिवस*
*हिंदी दिवस*
Atul Mishra
■ जीवन सार...
■ जीवन सार...
*Author प्रणय प्रभात*
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
"अस्थिरं जीवितं लोके अस्थिरे धनयौवने |
Mukul Koushik
एक कहानी है, जो अधूरी है
एक कहानी है, जो अधूरी है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
विश्व कप-2023 फाइनल
विश्व कप-2023 फाइनल
गुमनाम 'बाबा'
"सपनों का सफर"
Pushpraj Anant
शिकायत लबों पर
शिकायत लबों पर
Dr fauzia Naseem shad
मुझसे देखी न गई तकलीफ़,
मुझसे देखी न गई तकलीफ़,
पूर्वार्थ
बूथ लेवल अधिकारी(बीएलओ)
बूथ लेवल अधिकारी(बीएलओ)
gurudeenverma198
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
आख़िरी मुलाकात !
आख़िरी मुलाकात !
The_dk_poetry
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
Atul "Krishn"
मधुर व्यवहार
मधुर व्यवहार
Paras Nath Jha
*पहिए हैं हम दो प्रिये ,चलते अपनी चाल (कुंडलिया)*
*पहिए हैं हम दो प्रिये ,चलते अपनी चाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
राख का ढेर।
राख का ढेर।
Taj Mohammad
************ कृष्ण -लीला ***********
************ कृष्ण -लीला ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
Ranjeet kumar patre
Loading...